मथुरा के कोसीकलां रेलवे स्टेशन पर संपर्कक्रांति से दर्जनभर लोग टकराये, सात गंभीर दो की मौत

रेलवे स्टेशन पर आज सुबह हुए हादसे में दो यात्री की मौत हो गई और पांच गंभीर घायल हो गए। रेल यात्री दिल्ली जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस पकडऩे के लिए लाइन पारकर खड़े थे। इसी दौरान मुख्य लाइन पर दिल्ली की ओर जा रही छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति गुजरने से यह हादसा हुआ। हादसे में कोसी के गांव नगरिया, सातविसा निवासी थान सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद उसे उपचार के लिए लाइफ लाइन हॉस्पीटल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। वहीं नयति हॉस्पीटल में उपचार के दौरान नगरिया, सतविसा गांव के ही मेघ सिंह ने भी दम तोड़ दिया।रेलवे स्टेशन पर आज सुबह हुए हादसे में दो यात्री की मौत हो गई और पांच गंभीर घायल हो गए। रेल यात्री दिल्ली जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस पकडऩे के लिए लाइन पारकर खड़े थे। इसी दौरान मुख्य लाइन पर दिल्ली की ओर जा रही छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति गुजरने से यह हादसा हुआ। हादसे में कोसी के गांव नगरिया, सातविसा निवासी थान सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद उसे उपचार के लिए लाइफ लाइन हॉस्पीटल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। वहीं नयति हॉस्पीटल में उपचार के दौरान नगरिया, सतविसा गांव के ही मेघ सिंह ने भी दम तोड़ दिया।      हादसा मंगलवार को सुबह करीब 7:44 का है। मथुरा के कोसीकलां से फरीदाबाद और दिल्ली में नौकरी के लिए रोज बड़ी संख्या में मासिक यात्री जाते हैं। इंटरसिटी में मुफीद जगह पाने की जल्दी में यह यात्री नियमों को तोड़ लाइन पारकर दूसरी तरफ चले जाते हैं और गलत दिशा से ट्रेन में चढ़ते हैं। रोज की तरह दिल्ली की ओर जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय 7:43 पर स्टेशन पहुंची। ट्रेन आने की सूचना होते ही बड़ी संख्या में नौजवान यात्री लाइन पारकर पटरियों के बीच खड़े हो गए।   बुलंदशहर में मिट्टी धसकने से कुआं खोद रहे दो मजदूर दबे, एक की मौत, राहत कार्य जारी यह भी पढ़ें इंटरसिटी का ठहराव यहां एक मिनट का है। अभी इंटरसिटी प्लेटफार्म नंबर एक पर ठीक से रुकी भी नहीं थी कि यात्री हड़बड़ी में ट्रेन में चढऩे लगे। इसी दौरान दिल्ली की ओर जा रही छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति मुख्य डाउन लाइन (बीच की लाइन) से गुजरी। संपर्क क्रांति से बचने के लिए यात्री हटे तो तेज गति के दबाव में इंटरसिटी की ओर गिरे और रेंग रही इंटरसिटी की बोगियों की चपेट में आ गए। इससे सात यात्री कोसी के गांव नगरिया सातविसा के थान सिंह (18) पुत्र हरद्वारी,  इसी गांव के मेघसिंह (18) पुत्र कुंवर सिंह, राजपाल(23) पुत्र श्याम, कृष्ण पुत्र किशन कोसी के गांव सुरवारी का संदीप, बरसाना के गांव रिठौरा का दयानंद(26) पुत्र जगदीश और नीरज (27) पुत्र ओमी इंटरसिटी की बोगी की चपेट में आकर गंभीर घायल हो गए। कोसी के लाइफ लाइन अस्तपाल में घायलों को ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने थान सिंह को मृत घोषित कर दिया।   गो तस्करों से भयभीत औरैया के एक दर्जन मंदिरों में पुजारियों ने छोड़ी पूजा, पलायन यह भी पढ़ें वहीं गंभीर रूप से घायल मेघ सिंह को नयति हॉस्पीटल रेफर किया गया था, जहां उपचार के दौरान उनकी भी मौत हो गई। बाकी घायल लाइफ लाइन हॉस्पीटल में ही भर्ती हैं। स्टेशन पर पुलिस के देरी से पहुंचने पर यात्रियों ने हंगामा भी किया। हादसे के शिकार सभी नौजवान हैं और दिल्ली और फरीदाबाद में प्राइवेट संस्थानों में नौकरी के लिए रोज कोसी से अपडाउन करते हैं।

हादसा मंगलवार को सुबह करीब 7:44 का है। मथुरा के कोसीकलां से फरीदाबाद और दिल्ली में नौकरी के लिए रोज बड़ी संख्या में मासिक यात्री जाते हैं। इंटरसिटी में मुफीद जगह पाने की जल्दी में यह यात्री नियमों को तोड़ लाइन पारकर दूसरी तरफ चले जाते हैं और गलत दिशा से ट्रेन में चढ़ते हैं। रोज की तरह दिल्ली की ओर जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय 7:43 पर स्टेशन पहुंची। ट्रेन आने की सूचना होते ही बड़ी संख्या में नौजवान यात्री लाइन पारकर पटरियों के बीच खड़े हो गए।

इंटरसिटी का ठहराव यहां एक मिनट का है। अभी इंटरसिटी प्लेटफार्म नंबर एक पर ठीक से रुकी भी नहीं थी कि यात्री हड़बड़ी में ट्रेन में चढऩे लगे। इसी दौरान दिल्ली की ओर जा रही छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति मुख्य डाउन लाइन (बीच की लाइन) से गुजरी। संपर्क क्रांति से बचने के लिए यात्री हटे तो तेज गति के दबाव में इंटरसिटी की ओर गिरे और रेंग रही इंटरसिटी की बोगियों की चपेट में आ गए। इससे सात यात्री कोसी के गांव नगरिया सातविसा के थान सिंह (18) पुत्र हरद्वारी,

इसी गांव के मेघसिंह (18) पुत्र कुंवर सिंह, राजपाल(23) पुत्र श्याम, कृष्ण पुत्र किशन कोसी के गांव सुरवारी का संदीप, बरसाना के गांव रिठौरा का दयानंद(26) पुत्र जगदीश और नीरज (27) पुत्र ओमी इंटरसिटी की बोगी की चपेट में आकर गंभीर घायल हो गए। कोसी के लाइफ लाइन अस्तपाल में घायलों को ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने थान सिंह को मृत घोषित कर दिया।

वहीं गंभीर रूप से घायल मेघ सिंह को नयति हॉस्पीटल रेफर किया गया था, जहां उपचार के दौरान उनकी भी मौत हो गई। बाकी घायल लाइफ लाइन हॉस्पीटल में ही भर्ती हैं। स्टेशन पर पुलिस के देरी से पहुंचने पर यात्रियों ने हंगामा भी किया। हादसे के शिकार सभी नौजवान हैं और दिल्ली और फरीदाबाद में प्राइवेट संस्थानों में नौकरी के लिए रोज कोसी से अपडाउन करते हैं।

You May Also Like

English News