मनोज तिवारी, रवि‌किशन के बाद अब ‘पवन राजा’ भी होंगे भाजपाई ?

भोजपपुरी फिल्मों के ‘एंग्री यंग मैन’ पवन सिंह की एक तस्वीर सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई है। यूपी विधानसभा चुनाव में अखिलेश सरकार के लिए प्रचार करने वाले पवन राजा इन नेताओं के साथ क्या कर रहें हैं। बहरहाल चर्चा का बाजार गर्म है। आगे की स्लाइड में जानें पूरा मामला…मनोज तिवारी, रवि‌किशन के बाद अब 'पवन राजा' भी होंगे भाजपाई ?

दिल्ली में डेंगू-मलेरिया के मामले बढ़े, डेंगू फ्री कूलर खरीदने की अपील

भाजपा के राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा ने फेसबुक पर चर्चा का विषय बनी पवन सिंह की यह तस्वीर शेयर की है। इसमें उन्होंने लिखा कि आज सुबह भोजपुरी फ़िल्मों के सुपर स्टार और गायक पवन सिंह ने पटना स्थित मेरे निवास पर भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री मॉ. रामलाल जी से शिष्टाचार भेंट की।

इस दौरान बिहार के संगठन महामंत्री मॉ. नागेन्द्र जी भी उपस्थित थे। हाल ही में संपन्न उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में साइकिल चलाने वाले पवन सिंह के भाजपा नेताओं से मिलने के बाद अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। सोशल मीडिया पर कई मजेदार कमेंट किए जा रहे हैं।

सुनील कुमार ठाकुर लिखते हैं कि पवन सिंह को देशहित में आगे आना चाहिए और भाजपा ज्वाइन करना चाहिए। इसके विपरीत अशोक कुमार सिंह लिखते हैं कि बीजेपी बैसाखी के सहारे नहीं है। भाजपा अपने आप में सक्षम है। पार्टी को दल बदलुओं से सावधान रहना चाह‌िए।

 वहीं पीयूष सिंह राजपूत लिखते हैं कि पवन सिंह एक कलाकार हैं और उन्हें वही रहना चाहिए। पहले उन्होंने सपा ज्वाइन किया था और अब बीजेपी में न जाएं। ऐसे दल बदलू से भाजपा दूर ही रहे तो अच्छा रहेगा। इस पूरी बहस के बीच श्रवण पांडेय ने एक शेर के जरिए अपनी बात कही।
श्रवण पांडेय ने लिखा, बदन के घाव दिखाकर जो अपना पेट भरता है, सुना है, वो भिखारी के जख्म भर जाने से डरता है। ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि पवन सिंह ने भोजपुरी फिल्मों के प्रचार प्रसार के लिए भाजपा नेताओं से मुलाकात की है। लेकिन इसके राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।

पवन सिंह अगर भाजपा में जाते हैं तो वह तीसरे बड़े भोजपुरी स्टार होंगे जो ‌वर्ष 2019 के बिहार विधानसभा चुनाव में कमल का प्रचार करते नजर आएंगे। इससे पहले सुपरस्टार मनोज तिवारी और मेगास्टार रविकिशन भाजपा का दामन थाम चुके हैं।

 

You May Also Like

English News