मराठा आरक्षण : आज महाराष्ट्र बंद

आरक्षण की मांग पूरी नहीं होने से नाराज मराठा मोर्चा ने आज महाराष्ट्र बंद की घोषणा की है. मराठा आरक्षण के मामले में हो रही देरी के खिलाफ औरंगाबाद में निकाले गए मोर्चे के दौरान मराठा युवक काकासाहेब दत्तात्रय शिंदे द्वारा गोदावरी नदी में छलांग लगाकर जल समाधि लेने के बाद महाराष्ट्र बंद का फैसला किया गया है. युवक की मौत के बाद लोग नाराज हो गए और महाराष्ट्र के कई इलाकों में गाड़ियों- बसों में तोड़फोड़ की गई.आरक्षण की मांग पूरी नहीं होने से नाराज मराठा मोर्चा ने आज महाराष्ट्र बंद की घोषणा की है. मराठा आरक्षण के मामले में हो रही देरी के खिलाफ औरंगाबाद में निकाले गए मोर्चे के दौरान मराठा युवक काकासाहेब दत्तात्रय शिंदे द्वारा गोदावरी नदी में छलांग लगाकर जल समाधि लेने के बाद महाराष्ट्र बंद का फैसला किया गया है. युवक की मौत के बाद लोग नाराज हो गए और महाराष्ट्र के कई इलाकों में गाड़ियों- बसों में तोड़फोड़ की गई.  मुंबई शेयर बाजार तेजी के साथ बंद    इस बंद के दौरान सार्वजनिक परिवहन सेवा, एम्बुलेंस और अति आवश्यक सेवाओं को बंद से अलग रखा गया है. समिति ने सरकार को 2 दिन का अल्टिमेटम दिया है, वर्ना राज्य भर में तेज आंदोलन की चेतावनी दी है. बंद के ऐलान के बाद राज्य में सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है. साथ ही पुलिस ने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को घेरने की तैयारी करने की योजना बना रहे मराठा क्रांति मोर्चा के कम से कम 20 सदस्यों को हिरासत में लिया गया है.  मुंबई के गड्डों में डूबी महाराष्ट्र की सियासत    बता दें कि आज के बंद में मुंबई, सातारा, सोलापुर और पुणे को शामिल नहीं किया गया है. ऐसा पंढरपुर से दर्शन कर लौट रहे भक्तों (वारकरी) को मुंबई वापस लौटने देने के लिए किया गया है. समन्वय समिति ने ऐलान किया है कि बंद शांतिपूर्ण होगा

इस बंद के दौरान सार्वजनिक परिवहन सेवा, एम्बुलेंस और अति आवश्यक सेवाओं को बंद से अलग रखा गया है. समिति ने सरकार को 2 दिन का अल्टिमेटम दिया है, वर्ना राज्य भर में तेज आंदोलन की चेतावनी दी है. बंद के ऐलान के बाद राज्य में सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है. साथ ही पुलिस ने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को घेरने की तैयारी करने की योजना बना रहे मराठा क्रांति मोर्चा के कम से कम 20 सदस्यों को हिरासत में लिया गया है.

बता दें कि आज के बंद में मुंबई, सातारा, सोलापुर और पुणे को शामिल नहीं किया गया है. ऐसा पंढरपुर से दर्शन कर लौट रहे भक्तों (वारकरी) को मुंबई वापस लौटने देने के लिए किया गया है. समन्वय समिति ने ऐलान किया है कि बंद शांतिपूर्ण होगा

You May Also Like

English News