खुलासा: मायावती के जन्मदिन पर बच्चों को नेताओं ने खिलाया जूठा

नई दिल्ली: बीएसपी सुप्रीमो मायावती के बर्थडे पर बीएसपी कार्यकर्ताओं ने यहां केक काटकर उनकी लंबी उम्र की कामना की।


इस दौरान जब केक काटा गया तो उस पर कार्यकर्ता इस कदर टूट पड़े जैसे उन्हें पहली बार केक खाने को मिल रहा हो। हद तो ये हो गई कि मंच पर कार्यकर्ता केक के लिए आपस में छीना-झपटी करते रहे और मंच के नीचे मासूम बच्चे नेताओं के जूठन चाटते नजर आए। ये सब बीएसपी नेताओं के आखों के सामने होता रहा, लेकिन उन बच्‍चों पर किसी भी दया नहीं आई।

आज है मायावती का जन्मदिन, कुछ ही देर में करेंगी प्रेस कांफ्रेंस

मेरठ के गंगानगर में मायावती के बर्थडे के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में बीएसपी की नीतियों की कथनी और करनी में अंतर नजर आया। मंच से नेताओं ने कहा कि बहन मायावती की तरह हर कार्यकर्ता को जीवन में संघर्ष करना चाहिए। गरीबों और कमजोर वर्ग के ​लिए आगे बढ़कर संघर्ष करना होगा।

कार्यक्रम में कोऑर्डिनेटर रविराज भी मौजूद थे, उन्होंने भी कार्यकर्ताओं से बहनजी के पदचिन्हों पर चलने के लिए कहा। लेकिन मंच से वक्ताओं ने जो कुछ कहा, उसकी कथनी और करनी का अंतर केक काटने के दौरान साफ दिखाई दिया।
 
 
गरीबों के हितों की बात करने वाली पार्टी के कार्यकर्ता उन मासूम बच्चों को भूल गए, जो कार्यक्रम में मौजूद थे। इन बच्चों को उम्मीद थी कि बहनजी के बर्थडे का केक उन्हें भी खाने को मिलेगा। लेकिन उनके हिस्से में आया सिर्फ जूठन, जिस डिब्‍बे पर केक का कुछ बचा हुआ हिस्सा चिपका हुआ था। फोटोग्राफर जब इस सीन को अपने कैमरे में कैद करने लगे तो कार्यकर्ताओं ने उन बच्चों को वहां से हटा दिया।
इस कार्यक्रम में कैंट प्रत्याशी सतेंद्र सौलंकी को आना था, लेकिन किन्हीं कारणों से वह नहीं पहुंचे। बाद में उनके भाई हरेंद्र सौलंकी कार्यक्रम में पहुंचे। इस दौरान कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा गया कि वह बहन मायावती की नीतियों को जन-जन तक पहुंचाएं। कार्यक्रम में नवाब सिंह लखवाया, अतुल शर्मा, किरन, दिनेश, रतनपाल, ओमपाल, संजय, डा. ओमप्रकाश आदि मौजूद रहे।

You May Also Like

English News