मारुति दे रही है नया सेफ्टी फीचर, एक्सीडेंट की आशंका होगी कम

अक्सर हाइवे में कार चलने के दौरान टायर के फटने और इसकी वजह से एक्सीडेंट होने की खबरें आती रहती हैं। ऐसे में सफर को सुरक्षित बनाने के लिए मारुति सुजुकी एक नया सिक्योरिटी फीचर देने जा रही है। हालांकि, इस सिस्टम के लिए आपको अतिरिक्त 12,990 रुपए चुकाने होंगे।अक्सर हाइवे में कार चलने के दौरान टायर के फटने और इसकी वजह से एक्सीडेंट होने की खबरें आती रहती हैं। ऐसे में सफर को सुरक्षित बनाने के लिए मारुति सुजुकी एक नया सिक्योरिटी फीचर देने जा रही है। हालांकि, इस सिस्टम के लिए आपको अतिरिक्त 12,990 रुपए चुकाने होंगे।  देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी ऑप्शनल ऐक्सेसरी के तौर पर टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम (TPMS) ऑफर कर रही है। नई स्विफ्ट, डिजायर और ब्रेजा जैसी ज्यादा बिकने वाली गाड़ियों पर अब यह नया सेफ्टी फीचर मिलेगा।  ऐसे करता है काम  TPMS चारों पहियों का प्रेशर चेक करता है और प्रेशर सामान्य से कम या ज्यादा होने पर यह ड्राइवर को अलर्ट करता है। टायर प्रेशर की वजह से टायर फटने की आशंका बढ़ जाती है, जिससे ऐक्सिडेंट होने का खतरा भी बढ़ जाता है।  आज ही भारत ने किया था पहला परमाणु परीक्षण, जानें क्यों हुई थी पांच मिनट के देरी  टायर प्रेशर ज्यादा हो जाने पर गाड़ी रोक देनी चाहिए। इससे टायर्स को ठंडा होने का समय मिल जाता है। दरअसल, टायर के ज्यादा गर्म हो जाने पर भी वे फट जाते हैं। अधिकांश मामलों में देखा गया है कि टायर फटने के बाद ड्राइवर गाड़ी को कंट्रोल नहीं कर पाता है और गंभीर एक्सीडेंट होने की स्थिति में जान तक चली जाती है।  TPMS में पांच सेंसर्स होते हैं, जो एयर प्रेशर को मापते हैं और डैशबोर्ड पर लगे डिस्प्ले पर इसकी जानकारी दे देते हैं। इस फीचर के आ जाने के बाद कारों के मालिक को यह मौका मिलेगा कि वे अपने वाहन की सिक्योरिटी को और बढ़ा सकें।

देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी ऑप्शनल ऐक्सेसरी के तौर पर टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम (TPMS) ऑफर कर रही है। नई स्विफ्ट, डिजायर और ब्रेजा जैसी ज्यादा बिकने वाली गाड़ियों पर अब यह नया सेफ्टी फीचर मिलेगा।

ऐसे करता है काम

TPMS चारों पहियों का प्रेशर चेक करता है और प्रेशर सामान्य से कम या ज्यादा होने पर यह ड्राइवर को अलर्ट करता है। टायर प्रेशर की वजह से टायर फटने की आशंका बढ़ जाती है, जिससे ऐक्सिडेंट होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

टायर प्रेशर ज्यादा हो जाने पर गाड़ी रोक देनी चाहिए। इससे टायर्स को ठंडा होने का समय मिल जाता है। दरअसल, टायर के ज्यादा गर्म हो जाने पर भी वे फट जाते हैं। अधिकांश मामलों में देखा गया है कि टायर फटने के बाद ड्राइवर गाड़ी को कंट्रोल नहीं कर पाता है और गंभीर एक्सीडेंट होने की स्थिति में जान तक चली जाती है।

TPMS में पांच सेंसर्स होते हैं, जो एयर प्रेशर को मापते हैं और डैशबोर्ड पर लगे डिस्प्ले पर इसकी जानकारी दे देते हैं। इस फीचर के आ जाने के बाद कारों के मालिक को यह मौका मिलेगा कि वे अपने वाहन की सिक्योरिटी को और बढ़ा सकें।

You May Also Like

English News