मार्च में होने वाला है दुनिया का सबसे बड़ा महासंग्राम….

क्या दुनिया सचमुच जंग के मुहाने पर है? क्या उत्तर कोरिया के तानाशाह मार्शल किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप दुनिया को तबाही की तरफ धकेल रहे हैं? ये सवाल इसलिए क्योंकि दोनों में तनाव बराबर बना हुआ है. धमकियां दोनों दे रहे हैं। दोनों में ज़ुबानी जंग भी जारी है. अब दोनों जिस तरह से आपस में लड़ रहे हैं, उसे देख कर खतरा यही है कि कहीं ये जुबानी जंग असली जंग में ना तब्दील हो जाए.मार्च में होने वाला है दुनिया का सबसे बड़ा महासंग्राम....

पाक की बढ़ीं मुसीबतें, अमेरिका ने सैन्य सुरक्षा राशि बंद करने को पेश किया विधेयक

और कहीं ऐसा हुआ तो फिर मिसाइलें और बम बस उत्तर कोरिया या अमेरिकी शहरों को ही तबाह नहीं करेंगे. बल्कि पूरी दुनिया निशाने पर होगी. खतरा परमाणु हमले का भी है. क्योंकि उत्तर कोरिया लगातार इसी के बलबूते पर दुनिया को धमका रहा है. और उसी की जुबान में अमेरिका उसे धमका रहा है. अमेरिका ने तो यहां तक कह दिया है कि उत्तर कोरिया मार्च में महासंग्राम की पूरी तैयारी कर चुका है.

हिटलर का कहर

दुनिया के मशहूर भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने भविष्यवाणी की कि एक ऐसा बच्चा इस दुनिया में आएगा, जो कि युद्ध में कई लोगों की जान जाने की वजह बनेगा. हिटलर पैदा हुआ और उसने दुनिया को सेकेंड वर्ल्ड वॉर की आग में झोंक दिया. उस युद्ध में लाखों लोग मारे गए.

जापान पर परमाणु हमला

फिर उसने दो ऐसे धमाकों की भविष्यवाणी की जिसका असर काफी लंबे समय तक रहने वाला था. जापान पर परमाणु बम गिराया गया. जिसके असर से आजतक जापान जूझ रहा है. वहां आज भी बच्चे अपाहिज पैदा होते हैं. कुछ प्रभावित इलाकों की जमीन जहरीली है.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला

फिर उसने कहा था कि दो पत्थर आपस में टकराएंगे. जिससे युद्ध के हालात पैदा होंगे. इससे आसमान आतंक का इलाका बनेगा. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हवा में उड़ते विमान टकराए. दोनों इमारत ताश के पत्तों की तरह ढह गई. पूरी दुनिया ये खौफनाक मंजर देखकर दंग रह गई.

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

साल 2018 के लिए भी नास्त्रेदमस ने एक भविष्यवाणी कर रखी है. तीसरे विश्वयुद्ध की भविष्यवाणी, जो धरती पर मानव सभ्यता को ही संकट में लाने वाली है. ये सारी भविष्यवाणियां करने वाला नास्त्रेदमस 16वीं सदी के दौरान फ्रांस में जन्मा था. उसे महान भविष्यवक्ता माना जाता है. जिन भविष्यवाणियों को सच होते हमने देखा वो उसी इंसान की भविष्यवाणियां थी.

दो दिशाओं के बीच होगा युद्ध

अब हम आपको बताते हैं कि साल 2018 के लिए नास्त्रेदमस की पूरी भविष्यवाणी. नास्त्रेदमस की इस भविष्यवाणी के मुताबिक 2018 का युद्ध सिर्फ दो और दो से ज्यादा देशों में नहीं बल्कि दो दिशाओं के बीच होगा. यानी पूरब और पश्चिम के बीच. हालांकि ज़रूरी नहीं है कि नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी सच हो. क्योंकि उसकी कई भविष्यवाणी गलत भी साबित हुई हैं.

दुनिया पर विश्व युद्ध का खतरा 

हकीकत की दुनिया में इस भविष्यवाणी को जोड़कर आपको समझाते हैं. सेकेंड वर्ल्ड वॉर के 73 साल बाद एक बार फिर दुनिया के सामने ऐसे हालात बने हैं कि विश्व युद्ध का खतरा मंडराने लगा है. और इस बार अगर ऐसा होता है तो इसकी वजह ये दो मुल्क और इन दो मुल्कों के ये दो चेहरे बनेंगे. और इस अंदेशे की तस्दीक अब दोनों मुल्कों के अधिकारी भी करने लगे हैं. जो ये बताने के लिए काफी है कि वाकई परमाणु युद्ध के हालात बन रहे हैं.

हो सकती है परमाणु जंग

खुद अमेरिका भी सेटेलाइट के ज़रिए ली गई उत्तर कोरिया की तस्वीरों में उसकी परमाणु बमों की तैयारी को देखकर ये आशंका जता रहा है कि अब परमाणु जंग की संभावनाएं गहरा गई हैं. क्योंकि उत्तर कोरिया का ये तानाशाह चोरी छिपे इस हमले की प्लानिंग में पूरे ज़ोर शोर से जुटा हुआ है. अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के डायरेक्टर माइक पैंपिओ के मुताबिक उत्तर कोरिया अमेरिका पर न्युक्लियर मिसाइल से हमला बोल सकता है.

अमेरिकी खुफिया एजेंसी की चिंता

सीआईए के निदेशक माइक पैंपिओ का कहना है कि हमें इस बात की चिंता है कि उत्तर कोरिया के पास ऐसे न्यूक्लियर मिसाइल हैं जिससे वो एक महीने में अमेरिका पर हमला कर सकता है. हालांकि हमारी खुफिया एजेंसी लगातार प्योंगयांग और उसके राष्ट्रपति किम जोंग उन से संभावित खतरों पर चर्चा करती है. हमारा काम अमेरिका के राष्ट्रपति तक इस बारे में खुफिया जानकारी पहुंचाना है ताकि उनके पास इस जोखिम को गैर-कूटनीतिक तरीके से कम करने के विकल्प हों.

दुनिया पर भारी पड़ सकता है मार्च

यानी अगले एक महिने इस धरती पर बहुत भारी है. क्योंकि अमेरिका के मुताबिक उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने मार्च में महासंग्राम की पूरी तैयारी कर ली है. यानी मुमकिन है कि अगले तीस दिन में उत्तर कोरिया कोई ऐसा बड़ा धमाका करे कि दुनिया दंग रह जाए.

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच जुबानी जंग

परमाणु युद्ध को लेकर अमेरिका का ये बेहद गंभीर बयान उस वक्त आया है जब अमेरिकी राष्ट्रपति बार बार उत्तर कोरिया के सनकी तानाशाह को चेताते रहते हैं. हालांकि वहीं दूसरी तरफ इस साल की शुरूआत में जिस तरह किम के परमाणु बटन के जवाब में ट्रंप ने बड़े परमाणु बटन की धमकी दी उससे ये सवाल उठने लगे कि कहीं अमेरिका कोरिया पर हमले का बहाना तो नहीं ढूंढ रहा है. तो क्या अमेरिका उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के खिलाफ वैसा ही आक्रामक रवैया अपनायेगा जैसा उसने 73 साल पहले जापान के साथ अपनाया था.

दोनों गुटों के पास बराबर है तबाही का सामान

हालांकि इस बार हालात थोड़े जुदा हैं. क्योंकि इस बार अमेरिका का मुकाबला उस मुल्क से है जो 6 बार परमाणु परीक्षण कर चुका है. और उसके पास 10 या उससे ज़्यादा परमाणु बम हो सकते हैं. और सबसे बड़ी बात ये कि चोरी छुपे ही सही मगर उसके साथ चीन और रूस के रूप में दो ऐसी महाशक्तियां खड़ी हुई हैं, जिन्हें अमेरिका फूटी आंख नहीं सुहाता. यानी अगर हमला होता है. तो हमले की शुरूआत भले किसी भी तरफ से हो मगर इस जंग में दुनिया दो हिस्सों में बंटनी तय है. और दोनों गुटों के पास तकरीबन बारबरी की तादाद में परमाणु हथियार मौजूद हैं.

कुल मिलाकर नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी को मद्देनज़र रखें तो अगला युद्ध पूरब और पश्चिम के बीच होने वाला है. और ये युद्ध इतना भीषण होगा कि इसके खत्म होने के बाद इस पृथ्वी पर महज़ कुछ लोग ही शांति का आनंद उठाने के लिए जिंदा बचेंगे.

You May Also Like

English News