मालविंदर के खिलाफ NCLT में दाखिल अपनी याचिका वापस लेंगे शिविंदर

फोर्टिस हेल्थ केयर के पूर्व प्रमोटर शिविंदर मोहन सिंह ने गुरुवार को कहा उन्होंने बड़े भाई मालविंदर और पूर्व-रेलिगेयर प्रमुख सुनील गोधवानी के खिलाफ एनसीएलटी में दायर याचिका वापस लेने के लिए आवेदन किया है। शिविंदर ने आरोप लगाया है कि मालविंदर और गोधवानी की गतिविधियों से कंपनियों और शेयरधारकों का अहित हुआ।

शिविंदर ने बताया, “मैने एनसीएलटी में अपनी याचिका को वापस लेने के लिए आवेदन किया है, जिस पर सुनवाई होने वाली है। यह एक मध्यस्थता प्रक्रिया है जिसकी शुरुआत कर दी गई है और अगर यह काम नहीं करती है तो मेरे पास इसे फिर से भरने का विकल्प है।”

क्या था शिविंदर का आरोप?

शिविंदर ने कहा, “मैंने आरएचसी होल्डिंग, रेलिगेयर और फोर्टिस को नुकसान पहुंचाने व कुप्रबंधन को लेकर मालविंदर और सुनील गोधवानी के खिलाफ एनसीएलटी में मामला दायर किया है।” उन्होंने कहा कि यह कदम बहुत पहले ही उठाया जाना था, लेकिन वे यह सोचकर रुके रहे कि शायद स्थितियां सुधर जाएं और पारिवारिक विवाद का एक और बुरा अध्याय न लिखना पड़े। शिविंदर ने कहा कि मालविंदर और गोधवानी की गतिविधियों ने विधिवत तरीके से कंपनियों व शेयरधारकों के हितों को नुकसान पहुंचाया। इससे समूह के निष्ठावान ग्राहकों भी नुकसान हुआ।

शिविंदर ने 2015 में सार्वजनिक जीवन से संन्यास ले लिया था। इसके बाद से वह ब्यास में बस गए थे। उन्होंने कहा कि रेलिगेयर की एनबीएफसी शाखा में लिए गए फैसले, लेनदेन, ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी रैनबैक्सी को डायची के हाथों बेचना और प्राइवेट चार्टर एयरलाइन बिजनेस लाइगर एविएशन के संचालन में हुआ घाटा यह प्रमाणित करता है कि गड़बड़ी व्यवस्थित ढंग से हो रही थी। उन्होंने कहा कि पारिवारिक और निजी रूप से कष्ट होने बाद भी पारिवारिक कारोबारी प्रतिष्ठा की संवेदनशीलता के कारण वे किसी बयान से बच रहे थे।

You May Also Like

English News