मास्टर-ब्लास्टर के बेटे अर्जुन अच्छे बल्लेबाज के साथ हैं अच्छे गेंदबाज भी, जानिए किसने कहा

बांग्लादेश-अफगानिस्तान के बीच टी-20 मैचों की सीरीज के सफल आयोजन के बाद दून के राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में आइपीएल मैच की उम्मीदों को पंख लगे हैं। आइपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा कि जल्द ही आइपीएल गवर्निग काउंसिल की टीम स्टेडियम का निरीक्षण करने के लिए भेजी जाएगी। क्योंकि, आइपीएल के लिए मानक और भी कड़े हैं। अगर स्टेडियम मानकों पर खरा उतरा तो इसे वैन्यू लिस्ट में शामिल किया जाएगा। लेकिन, इसके बाद आइपीएल टीमों के मालिकों की सहमति भी जरूरी होती है। अगर वह टीम को यहां भेजने के लिए राजी हो जाते हैं तो निश्चित रूप से आइपीएल मैच होगा। वहीं इस दौरान उन्होंने मास्टर ब्लास्ट सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन की भी जमकर तारीफ की। पिछले साल देहरादून में एक रणजी मैच होना था, लेकिन एसोसिएशनों में बिखराव के चलते नहीं हो सका। कुछ एसोसिएशनों ने शिकायत कर दी। निजी हितों की मानसिकता को बदलना होगा और उत्तराखंड की क्रिकेट प्रतिभाओं के बारे में सोचना होगा। ये दुर्भाग्य है कि मान्यता के अभाव में उन्हें दूसरे राज्यों से खेलना पड़ रहा है। इस दौरान क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट, सचिव पीसी वर्मा, उत्तराखंड टी-20 क्रिकेट एसोसिएशन के महासचिव जावेद बट्ट, नीनू सहगल, अनिल डोभाल, अभिनव थापर आदि मौजूद रहे।   अर्जुन तेंदुलकर का भविष्य उज्ज्वल   राजीव शुक्ला ने कहा कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर का अंडर-19 टीम में चयन हुआ है। अर्जुन तेंदुलकर का भविष्य उज्ज्वल है। बल्लेबाज के साथ एक बेहतर गेंदबाज के रूप में भी वह उभर रहे हैं।

राजीव शुक्ला ने गुरुवार को स्टेडियम का निरीक्षण भी किया। कहा कि उनका पूरा प्रयास रहेगा कि अगले साल आइपीएल के कुछ मैच यहां हों। उन्होंने ये बातें रेंजर्स मैदान में मीडिया से वार्ता में कहीं। वह यहां ऑल इंडिया उत्तराखंड गोल्ड कप के तहत क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड और एयर इंडिया दिल्ली के बीच खेले जा रहे क्वार्टर फाइनल मैच को देखने पहुंचे थे। उन्होंने दोनों टीमों से परिचय प्राप्त किया और उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन की टीम के खिलाड़ियों से भी बातचीत की

उन्होंने कहा कि देहरादून में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनने के बाद अब उत्तराखंड में क्रिकेट का भविष्य उज्ज्वल है। अब समय आ गया है कि प्रदेश की क्रिकेट एसोसिएशनों को आपसी खींचतान खत्म करते हुए बीसीसीआइ के पास मान्यता के लिए जाना चाहिए। यह स्पष्ट है कि मान्यता तभी मिलेगी, जब सभी क्रिकेट एसोसिएशन एक हो जाएंगी। अगर एक-दूसरे की शिकायत करेंगे और टांग खींचते रहेंगे तो ये संभव नहीं होगा। 

पिछले साल देहरादून में एक रणजी मैच होना था, लेकिन एसोसिएशनों में बिखराव के चलते नहीं हो सका। कुछ एसोसिएशनों ने शिकायत कर दी। निजी हितों की मानसिकता को बदलना होगा और उत्तराखंड की क्रिकेट प्रतिभाओं के बारे में सोचना होगा। ये दुर्भाग्य है कि मान्यता के अभाव में उन्हें दूसरे राज्यों से खेलना पड़ रहा है। इस दौरान क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट, सचिव पीसी वर्मा, उत्तराखंड टी-20 क्रिकेट एसोसिएशन के महासचिव जावेद बट्ट, नीनू सहगल, अनिल डोभाल, अभिनव थापर आदि मौजूद रहे। 

अर्जुन तेंदुलकर का भविष्य उज्ज्वल 

राजीव शुक्ला ने कहा कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर का अंडर-19 टीम में चयन हुआ है। अर्जुन तेंदुलकर का भविष्य उज्ज्वल है। बल्लेबाज के साथ एक बेहतर गेंदबाज के रूप में भी वह उभर रहे हैं।

 

You May Also Like

English News