मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की बजट पर प्रतिक्रिया

 उत्तराखंड के बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि वित्तमंत्री प्रकाश पंत ने एक ऐसा ऐतिहासिक और समावेशी बजट पेश किया है, जिसमें पहाड़ से मैदान तक, किसान से मजदूर तक, पर्यटन से लेकर पलायन रोकने तक, हर क्षेत्र का पूरा ख्याल रखा गया है. युवाओं को रोजगार देने, स्वरोजगार को बढ़ावा देने और महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण के प्रति सरकार गंभीर है, इसका स्पष्ट रोडमैप बजट में दिखता है. बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार इस राज्य के इतिहास में आम जनता की राय और सुझावों को लेकर बजट बनाया गया है.देहरादून: उत्तराखंड के बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि वित्तमंत्री प्रकाश पंत ने एक ऐसा ऐतिहासिक और समावेशी बजट पेश किया है, जिसमें पहाड़ से मैदान तक, किसान से मजदूर तक, पर्यटन से लेकर पलायन रोकने तक, हर क्षेत्र का पूरा ख्याल रखा गया है. युवाओं को रोजगार देने, स्वरोजगार को बढ़ावा देने और महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण के प्रति सरकार गंभीर है, इसका स्पष्ट रोडमैप बजट में दिखता है. बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार इस राज्य के इतिहास में आम जनता की राय और सुझावों को लेकर बजट बनाया गया है.  इस क्रम में 'आपकी राय आपका बजट' कार्यक्रम शुरू किया गया, जिसके लिए उत्तरकाशी के गंगनानी में किसानों से संवाद किया, इसी तरह पिथौरागढ़ में महिलाओं के सैकड़ों सुझाव मिले. उन्होंने बताया कि देहरादून में छात्रों के सुझाव लिए और पंतनगर में किसानों के साथ-साथ उद्यमियों के सुझाव बजट के लिए मांगे. इसके अलावा सोशल मीडिया और ईमेल के जरिये भी बजट पर लोगों की राय मांगी गई. जनता ने हमें 2000 से ज्यादा सुझाव दिए. इनमें से अधिकतर सुझावों को बजट में शामिल किया गया है. इसलिए पूर्ण रूप से यह बजट जनता का बजट है. इस बजट के माध्यम से सरकार ने आउटकम बेस्ड परफार्मेंस को बढ़ावा दिया है.  गौरतलब है कि संचार सुविधाओं का प्रयोग करते हुए उत्तराखंड सरकार ने बजट से पहले राज्य की जनता से एक बेहतर बजट के लिए सुझाव मांगे थे जिस पर लोगो ने प्रतिक्रियाएं भी भेजी थी, सरकार ने बजट में आम जन के सुझावों का समावेश भी किया है.

इस क्रम में ‘आपकी राय आपका बजट’ कार्यक्रम शुरू किया गया, जिसके लिए उत्तरकाशी के गंगनानी में किसानों से संवाद किया, इसी तरह पिथौरागढ़ में महिलाओं के सैकड़ों सुझाव मिले. उन्होंने बताया कि देहरादून में छात्रों के सुझाव लिए और पंतनगर में किसानों के साथ-साथ उद्यमियों के सुझाव बजट के लिए मांगे. इसके अलावा सोशल मीडिया और ईमेल के जरिये भी बजट पर लोगों की राय मांगी गई. जनता ने हमें 2000 से ज्यादा सुझाव दिए. इनमें से अधिकतर सुझावों को बजट में शामिल किया गया है. इसलिए पूर्ण रूप से यह बजट जनता का बजट है. इस बजट के माध्यम से सरकार ने आउटकम बेस्ड परफार्मेंस को बढ़ावा दिया है.

गौरतलब है कि संचार सुविधाओं का प्रयोग करते हुए उत्तराखंड सरकार ने बजट से पहले राज्य की जनता से एक बेहतर बजट के लिए सुझाव मांगे थे जिस पर लोगो ने प्रतिक्रियाएं भी भेजी थी, सरकार ने बजट में आम जन के सुझावों का समावेश भी किया है.  

You May Also Like

English News