मुलाकात से पहले ट्रंप की किम को चेतावनी

12 जून को सिंगापुर में हो रही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग कि बहुप्रतीक्षित मुलाकात से पहले ट्रंप ने G7 सम्मेलन के दौरान कहा है कि किम जोंग के लिए सिंगापुर शिखर सम्‍मेलन आखिरी मौका है. किम जोंग आज सिंगापुर के लिए रवाना होंगे. 12 जून को सिंगापुर में हो रही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग कि बहुप्रतीक्षित मुलाकात से पहले ट्रंप ने G7 सम्मेलन के दौरान कहा है कि किम जोंग के लिए सिंगापुर शिखर सम्‍मेलन आखिरी मौका है. किम जोंग आज सिंगापुर के लिए रवाना होंगे.   डोनाल्‍ड ट्रंप का मानना है कि किम के साथ मुलाकात 'शांति का मिशन' है. इससे पहले भी डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि 12 जून को सिंगापुर में किम के साथ होने वाली उनकी मुलाकात सिर्फ तस्वीरें खिंचाने का अवसर नहीं बल्कि इससे कहीं बढ़कर होगी. ट्रंप ने ये भी कहा था कि, 'सिंगापुर वार्ता सफल रहती है तो अगली मुलाकात व्हाइट हाउस में होगी.' ट्रंप ने इस मुलाकात को लेकर कहा था कि यदि सब ठीक रहा तो वे किम को वाइट हाउस आने का निमंत्रण दे सकते है जिससे दोनों देशो के बीच संबंध और मधुर हो.   मुलाकात सिंगापुर के पर्यटक रिसॉर्ट द्वीप सेंटोसा में होगी जिसे दुनियाभर के लगभग 2,500 से अधिक पत्रकार कवर करेंगे. वार्ता को लेकर कई तरह कि अटकले थी और ये मुलाकात पहले रद्द भी हो गई थी. उस वक्‍त ट्रंप ने कहा था कि किम के हाल के बयानों से यह मुलाकात संभव नहीं है. किम का चीन दौरा इसका मुख्य कारण था.

डोनाल्‍ड ट्रंप का मानना है कि किम के साथ मुलाकात ‘शांति का मिशन’ है. इससे पहले भी डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि 12 जून को सिंगापुर में किम के साथ होने वाली उनकी मुलाकात सिर्फ तस्वीरें खिंचाने का अवसर नहीं बल्कि इससे कहीं बढ़कर होगी. ट्रंप ने ये भी कहा था कि, ‘सिंगापुर वार्ता सफल रहती है तो अगली मुलाकात व्हाइट हाउस में होगी.’ ट्रंप ने इस मुलाकात को लेकर कहा था कि यदि सब ठीक रहा तो वे किम को वाइट हाउस आने का निमंत्रण दे सकते है जिससे दोनों देशो के बीच संबंध और मधुर हो. 

मुलाकात सिंगापुर के पर्यटक रिसॉर्ट द्वीप सेंटोसा में होगी जिसे दुनियाभर के लगभग 2,500 से अधिक पत्रकार कवर करेंगे. वार्ता को लेकर कई तरह कि अटकले थी और ये मुलाकात पहले रद्द भी हो गई थी. उस वक्‍त ट्रंप ने कहा था कि किम के हाल के बयानों से यह मुलाकात संभव नहीं है. किम का चीन दौरा इसका मुख्य कारण था.

You May Also Like

English News