मुश्किल में AAP: PWD घोटाले में फंसा केजरीवाल का रिश्‍तेदार अरेस्‍ट, एसीबी करेगी पूछताछ

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) घोटाले में केजरीवाल के दिवंगत साढ़ू सुरेंद्र कुमार बंसल के बेटे विनय बंसल को भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो ने आज गिरफ्तार किया है।10 करोड़ रुपये का घोटाला  - 10 करोड़ रुपये के पीडब्ल्यूडी घोटाले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दिवंगत साढू सुरेंद्र कुमार बंसल का भी नाम है।   - एसीबी ने 9 मई, 2017 को लोक निर्माण विभाग घोटाले में बंसल व वरिष्ठ पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए थे।  - जांच एजेंसी ने पीडब्ल्यूडी के छह इंजीनियरों से 13 मई, 2017 को पूछताछ की थी। बंसल व पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन रिपोर्ट यह पाए जाने के बाद दर्ज की गईं कि अलग-अलग कामों के लिए कई बिलों को अलग-अलग कंपनियों द्वारा मंजूरी दी गई थी।  - इस मामले में सुरेंद्र कुमार बंसल का नाम भी सामने आया, जिनका 8 मई, 2017 को निधन हो गया। वह एक ड्रेन परियोजना व फुटपाथ के सुधार कार्य से जुड़े थे। इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर शनि मंदिर से लेकर बकोली गांव के नाला संख्या-6 तक के सुधार का काम शामिल था।

दिवंगत बंसल की कंपनी (रेणु कंस्ट्रक्शन) व दो अन्य कंपनियों के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक शाखा ने उनके खिलाफ फर्जीवाड़ा, धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

बता दें कि रोड एंटीकरप्शन आर्गनाइजेशन संस्था व एक पत्रकार ने सूचना के अधिकार (आरटीआइ) के तहत जानकारी जुटाकर आइपी एस्टेट थाने में शिकायत की थी। दिवंगत सुरेंद्र बंसल पर आरोप है कि उन्होंने केजरीवाल की मदद से पीडब्ल्यूडी का ठेका प्राप्त किया था।

10 करोड़ रुपये का घोटाला

– 10 करोड़ रुपये के पीडब्ल्यूडी घोटाले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दिवंगत साढू सुरेंद्र कुमार बंसल का भी नाम है। 

– एसीबी ने 9 मई, 2017 को लोक निर्माण विभाग घोटाले में बंसल व वरिष्ठ पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए थे।

– जांच एजेंसी ने पीडब्ल्यूडी के छह इंजीनियरों से 13 मई, 2017 को पूछताछ की थी। बंसल व पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन रिपोर्ट यह पाए जाने के बाद दर्ज की गईं कि अलग-अलग कामों के लिए कई बिलों को अलग-अलग कंपनियों द्वारा मंजूरी दी गई थी।

– इस मामले में सुरेंद्र कुमार बंसल का नाम भी सामने आया, जिनका 8 मई, 2017 को निधन हो गया। वह एक ड्रेन परियोजना व फुटपाथ के सुधार कार्य से जुड़े थे। इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर शनि मंदिर से लेकर बकोली गांव के नाला संख्या-6 तक के सुधार का काम शामिल था।

You May Also Like

English News