‘मेक इन इंडिया’ के तहत भारत में बनेगा अमेरिकन F-16, जानिये कुछ विशेषताएं

मेक इन इंडिया के तहत भारतीय वायु सेना अमेरिकन एफ-16 और स्विडिश साब ग्रिपेन फाइटर एयरक्राफ्ट देश में बनाने के लिए ट्रायल लेने वाली है. मेक इन इंडिया के तहत इन दोनों में से किसी एक फाइटर एयरक्राफ्ट को चुनकर 120 कॉम्बेट प्लेन बनाने की योजना है. अनुमानित तौर पर यह डील लगभग 1.3 लाख करोड़ की है.
'मेक इन इंडिया' के तहत भारत में बनेगा अमेरिकन F-16, जानिये कुछ विशेषताएंINCOME TAX ने बनाया एक नया नियम, जिससे रुकेगी टैक्स चोरी…

वायु सेना के एक अधिकारी ने कहा है कि ‘इन दोनों फाइटर एयरक्राफ्टों की जांच सात साल पहले ही की जा चुकी है. अब मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के लिए बस उन्हीं चिजों की जांच होगी, जिसमें उस समय कमी पाई गई थी.’ अधिकारी ने बताया की ‘नई चीजों के परीक्षण के लिए लिमिटेड ट्रायल ही लिया जाएगा. उम्मीद है कि अगले एक साल में हम इस डील को फाइनल कर लेंगे’.

अमेरीकन F-16 की विशेषताएं
1. F-16 फाइटर फलकॉन, एक इंजन वाला सुपर सॉनिक मल्टीरोल फाइटर एयरक्राफ्ट है.
2. 4थें जेनेरेशन का सबसे आधुनिक फाइटर जेट है.
3. सबसे एडवांस रडार सिस्टम है (Active Electronically Scanned Array)
4. उमदा GPS नैविगेशन भी इसकी खासियत है.

5. एडवांस हथियार से लैस, इस एयरक्राफ्ट में एडवांस स्नाइपर टारगेटिंग पॉड भी है.
6. यह फाइटर एयरक्राफ्ट जेनेरल डाइनेमिक (अब लॉकहीड मार्टिन) युनाइटेड स्टेट एयर फोर्स के लिए बनाता है.
7. F-16 की अधिकतम गती 1,500 मील प्रति घंटे हैं.
8. यह एयरक्राफ्ट किसी भी मैसम में काम कर सकता है.
9. इसमें फ्रेमलेस बबल कॉनोपी है, जिससे देखने मे सुविधा होती है.
10. सीटें 30 डिग्री पर मुड़ी है, जिससे पॉयलट को g-फोर्स की अनुभूती कम होती है.
11. अमेरीका और अन्य 25 देश कर रहे हैं इसका इस्तेमाल.

You May Also Like

English News