मोदी के रक्षामंत्री के नाम के ऐलान करने से पहले ही उड़ गई है पाक-चीन की नींद, जानें ऐसा है क्यों..??

पूरे देश को भगवा रंग से रंगने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अमित शाह अब देश की सीमाओं की रक्षा का जिम्मा उठाने जा रहे हैं। आपको बता दें कि फिल्हाल, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वर्तमान अध्यक्ष अमित शाह गुजरात से राज्य सभा का चुनाव लड़ने जा रहे हैं। अमित शाह के साथ स्मृति ईरानी भी गुजरात से राज्य सभा चुनाव के मैदान में हैं।

आर्मी चीफ ने कह दी ऎसी बात, कि चीन और पाकिस्तान को धमकी देने से पहले 100 बार सोचना पड़ेगा अब

मोदी के रक्षामंत्री के नाम के ऐलान करने से पहले ही उड़ गई है पाक-चीन की नींद, जानें ऐसा है क्यों..??

अमित शाह को मि‍ल सकती है रक्षा मंत्रालय की कमान

गुजरात में बीजेपी की जो स्थिति है उसे देखते हुए दोनों नेताओं का जीतना और राज्यसभा पहुंचना तय माना जा रहा है। गौरतलब है कि अभी अमित शाह गुजरात के सरखेज विधानसभा से विधायक हैं। बीजेपी ने जिस तरह से अचानक अमित शाह को राज्यसभा चुनाव लड़ने के लिए मैदान में उतारा है, उससे राजनीतिक गलियारे में बातें होने लगी है कि जितने के बाद उन्हें नरेंद्र मोदी कैबिनेट में जगह मिल जाएगी।

आपको यहां बता दें की केंद्रिय मंत्री बनने के लिए सांसद होना जरूरी है, शायद इसलिए अमित शाह को राज्यसभा चुनाव लड़वाया जा रहा है। मीडिया में यह खबर चलाई जा रही है कि अमित शाह को राज्यसभा का चुनाव लड़वाकर राज्यसभा में लाने का मकसद उन्हें देश का नया रक्षा मंत्री बनाना है। गौरतलब है कि मनोहर पर्रीकर के रक्षा मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से यह महत्वपूर्ण पद खाली है।

नीतीश के मुस्लिम MLA ने लगाये जय श्रीराम के नारे, कहा-“भगवान श्री राम का नाम लेना…: विडियो

पाक-चीन को सबक सिखाने के लिए मोदी का मास्टर स्ट्रोक

जिस तरह से अमित शाह ने पूरे देश में बीजेपी की सरकार बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उससे ये बात तो साफ हो गई है कि वो वाकई में आज के युग के चाणक्य हैं। ये बात भी सभी जानते हैं कि पीएम मोदी के बाद अमित शाह बीजेपी में दूसरे सबसे ताकतवर नेता हैं। कुछ राजनीतिक जानकार ऐसा मान रहे हैं कि राज्यसभा में अमित शाह को लाने के पीछे की मंशा उन्हें रक्षा मंत्री बनाना हो सकता है।

ऑडियो हुआ लीक – ‘राहुल गांधी और कांग्रेस में मोदी को टक्कर देने की कूवत नहीं’, कहते सुने गए कांग्रेसी सांसद

जेटली पर इस वक्त स्वास्थ्य और वित्त मंत्रालय का भार है, इसलिए जल्द ही किसी बड़े नेता को रक्षा मंत्रालय का जिम्मा सौंपा जा सकता है। इधर भारत और चीन के बीच जारी सिक्किम में सीमा विवाद के बीच मोदी सरकार पर विपक्ष एक पूर्णकालिक रक्षा मंत्री न होने के कारण निशाना साध रहा है। इसलिए माना जा रहा है कि अमित शाह को रक्षा मंत्री बनाकर मोदी सरकार देश की सुरक्षा को और मजबुत करने कि दिशा में आगे बढ़ रही है।

loading...

You May Also Like

English News