मोबाइल से नहीं होता है कैंसर

मोबाइल का बहुत उपयोग करने वालों के लिए यह खुशखबर है कि किसी भी तरह कि अब उन्हें यह आशंका रखने की जरूरत नहीं है कि मोबाइल के उपयोग से उन्हें कैंसर या उसके जैसी कोई बड़ी बीमारी हो सकती है । वैज्ञानिक शोध से ऐसी धारणा निराधार साबित हुई है । 

जब से मोबाइल फोन का उपयोग बढ़ा है, कई लोगों के मन में यह आशंका आती है कि इससे कुछ बीमारियाँ हो सकती है। विशेषकर यह चर्चा सुनने में आती है कि इससे कैंसर, उसमें भी खासकर दिमाग का कैंसर (ब्रेन-कैंसर) हो सकता है । लेकिन, अब जो वैज्ञानिक तरीकों से शोधकार्य किए गए हैं उनके नतीजे ऐसी शंकाओं को पूरी तरह से खारिज करते हैं ।

वैज्ञानिकों का यह मानना रहा है कि मोबाइल से जो विद्युत-चुम्बकीय तरंगें या विकिरण चलते और आते है वे इतने सूक्ष्म व कमजोर होते हैं कि उनसे किसीके शरीर को कोई हानी नहीं हो सकती है । लेकिन समय-समय पर यह शंका उठती रही और पूर्व में कुछ लोगों ने अध्ययन-पूर्वक यह दावा भी किया कि मोबाइल के प्रयोग का ब्रेन-कैंसर से कुछ संबंध है । इस पर वैज्ञानिक पद्धति व मानदंडों के अनुसार अध्ययन किया गया और उसके नतीजों से यह धारणा गलत साबित हुई ।

वैज्ञानिकों के अनुसार मोबाइल का उपयोग करने वालों को दूसरे कुछ कारणों से कैंसर होम सकता है; इसलिए उन्हे दूसरी सभी सावधानियाँ रखनी चाहिए । लेकिन मोबाइल उनके कैंसर का मूल कारण नहीं हो सकता है । इसका उपयोग आप आवश्यकतानुसार ही करें, यह तो अन्य कई दृष्टियों से अच्छा है । लेकिन मोबाइल और कैंसर का आपस में कोई संबंध है, ऐसी आशंका रखने की जरूरत नहीं हैं ।   

You May Also Like

English News