यमला पगला दीवाना फिर से Review: बोझिल है देओल फैमिली की फिल्म

फिल्म: यमला पगला दीवाना फिर सेयमला पगला दीवाना फिर से Review: बोझिल है देओल फैमिली की फिल्म

डायरेक्टर: नवनैत सिंह

स्टार कास्ट: धर्मेंद्र, सनी देओल, बॉबी देओल, कृति खरबंदा, शत्रुघ्न सिन्हा, असरानी

अवधि: 2 घंटा 28 मिनट

सर्टिफिकेट: U/A

रेटिंग: 1.5 स्टार

साल 2011 में जब फिल्म यमला पगला दीवाना आई, तो उसने दर्शकों को धर्मेंद्र और उनके बेटों के साथ हंसी मजाक का नया फ्लेवर दिया. लेकिन 2013 में रिलीज हुआ दूसरा पार्ट बॉक्स ऑफिस पर धमाल नहीं मचा सका. पहले पार्ट को समीर कार्णिक ने और दूसरे को संगीत सिवान ने डायरेक्ट किया था. अब लगभग 5 साल के बाद इसी सीरीज की तीसरी फिल्म यमला पगला दीवाना फिर से रिलीज हुई है. क्या यह फिल्म दर्शकों को हंसाने में कामयाब होगी. आइए जानते हैं आखिरकार कैसी बनी है यह फिल्म.

कहानी

फिल्म की कहानी पंजाब से शुरू होती है जहां वैद्य पूरन सिंह (सनी देओल) अपने भाई काला (बॉबी देओल) और दो बच्चों के साथ रहता है. पूरन सिंह का एक किराएदार भी है जिसका नाम जयवंत परमार (धर्मेंद्र) है. जो पेशे से वकील भी है. पूरन सिंह के पास वज्र कवच नामक आयुर्वेदिक दवा बनाने का फार्मूला है, जिसका काम कई पीढ़ियों से चलता आ रहा है. उस फार्मूले के पीछे मशहूर बिजनेसमैन माफतिया लग जाता है. कहानी में चीकू (कृति खरबंदा) की एंट्री होती है जो कि एक डेंटिस्ट है और सिलसिलेवार घटनाओं में उसकी मुलाकात पूरन सिंह और काला से होती है. कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब बिजनेसमैन माफिया अपनी तरफ से पूरण सिंह के ऊपर दवा का फॉर्मूला चोरी करने का केस करता है और कहानी पंजाब से गुजरात पहुंच जाती है. अंततः क्या होता है यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी

You May Also Like

English News