अभी अभी: यूपी में नहीं बनेगी मोदी सरकार, सपा-बसपा में बनी बात

हम नहीं चाहते कि यूपी को बीजेपी रिमोट कंट्रोल से चलाए लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल आने के बाद सभी राजनैतिक दलों में हलचल बढ़ गई है। बीजेपी बहुमत में आती नजर आ रही है। तो वहीँ सपा ने सरकार बनाने के लिए विकल्प तलाशना शुरू भी कर दिया है। गुरुवार को अखिलेश यादव ने इस बात के संकेत भी दे दिए कि अगर जरुरत पड़ी तो वो बीएसपी के साथ भी गठबंधन कर सकते हैं।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि 11 मार्च का चुनावी नतीजा उनके पक्ष में आएगा। अखिलेश ने साफ कहा कि चुनाव परिणामों में यदि उन्हें या किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलता है तो वो प्रदेश में कम-से-कम राष्ट्रपति शासन नहीं चाहेंगे। हम नहीं चाहते कि यूपी को बीजेपी रिमोट कंट्रोल से चलाए।

उत्तर प्रदेश में सातवें और अंतिम दौर के मतदान के बाद अखिलेश यादव ने यह सारी बातें बीबीसी हिन्दी के साथ बातचीत के दौरान कही। अखिलेश से जब पारिवारिक कलह और नेताजी की नाराजगी के सवाल पूछा गया तब उन्होंने कहा कि नेताजी का जहां मन किया वहां प्रचार करने गए। हमने उनसे कुछ नहीं कहा।

अखिलेश से जब उनकी सौतेली मां साधना गुप्ता के ताजा बयान से जुड़ा सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जो राजनीति में आना चाहेगा उसे कौन रोकेगा। राजनीति में सभी को आना चाहिए। कांग्रेस संग गंठबंधन पर अखिलेश ने कहा कि राहुल भी चाहते हैं कि प्रदेश का विकास हो। मैं राहुल गांधी को पहले से ही जानता हूं। हमने एक संदेश दिया कि जो धर्मनिरपेक्ष सरकार चाहते हैं जो विकास के लिए सरकार चाहते हैं इसलिए कांग्रेस का साथ दिया। मैं कंजूस के साथ दोस्ती नहीं करता।

समाजवादी पार्टी के एक मंत्री गायत्री प्रजापति को लेकर उठे विवाद पर उन्होंने कहा कि इस मामले की सुप्रीम कोर्ट निगरानी कर रहा है। मैंने पुलिस को निष्पक्ष कार्रवाई करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि मैं चुनाव के दौरान कोई क़दम उठाना नहीं चाहता था क्योंकि इसका ग़लत संदेश जाता। मैं गठबंधन की बात अभी नहीं कह सकता क्योंकि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है।

You May Also Like

English News