रतन टाटा बनते इस अमेरिकी लड़की के पति, अगर ना होता भारत-चीन युद्ध

बिजनेस जगत में जाना-पहचाना नाम हैं रतन टाटा। उनका जन्म 28 दिसंबर, 1937 को हुआ था। 1961 में टाटा ग्रुप से करियर शुरू करने के बाद वे 1991 में इसी कंपनी के चेयरमैन भी बने।

रतन टाटा बनते इस अमेरिकी लड़की के पति, अगर ना होता भारत-चीन युद्ध

बड़ा खुलासा: 2000 के नोट पर लगेगा बैन, पीएम मोदी का संदेश आज होने वाला है लीक

साल 2012 में वो रिटायर हुए थे। 1991 में टाटा समूह के चेयरमैन का पद संभालने वाले रतन टाटा ने कंपनी को बुलंदियों पर पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बता दें कि टाटा की लव लाइफ भी काफी दिलचस्प रही है। उन्हें जिंदगी में चार बार प्यार हुआ, लेकिन शादी नहीं हो पाई।

रतन टाटा ने इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने चार बार प्यार किया और यह प्यार इतना ज्यादा था कि शादी तक बात आ पहुंची थी। हालांकि, हर बार अंत में शादी नहीं हो सकी।
 
प्यार की इन चार कहानियों में सबसे ज्यादा सीरियस लव स्टोरी टाटा के अमेरिका में रहने से जुड़ी है। टाटा के अनुसार, “अमेरिका में हुए प्यार के बाद हम शादी करने वाले थे।

यह है पाकिस्तान का लालची पिता, 13 साल की बेटी का किया सौदा…

उसी बीच मैं भारत लौट आया। उसे भी भारत आना था, लेकिन 1962 में भारत-चीन के बीच चल रहे युद्ध के कारण वो भारत नहीं आ पाई और कुछ साल बाद अमेरिका में ही उसने किसी और से शादी कर ली।” बता दें कि वे अपनी लव लाइफ के बारे में ज्यादा बात करना पसंद नहीं करते हैं।

You May Also Like

English News