रविशंकर प्रसाद का बड़ा बयान, कहा- नोटबंदी शुरुआत, आधार से रुकेगी आतंकी फंडिंग

नोटबंदी की वर्षगांठ पर कॉन्क्लेव नोटबंदी से कितना फायदा कितना नुकसान के तीसरे अहम सत्र नोटबंदी का जश्न क्यों में केन्द्रीय आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शिरकत की. इस सत्र का संचालन श्वेता सिंह ने किया. नोटबंदी का फायदा गिनाते हुए प्रसाद ने दावा किया कि कश्मीर में पत्थर फेंकने वालों की संख्या कम हुई है. वहीं नोटबंदी के बाद से नक्सलवाद में कमी दर्ज हुई है. प्रसाद के मुताबिक नोटबंदी का सबसे बड़ा फायदा देश में देह व्यापार पर भी पड़ा है. नोटबंदी के बाद अब देश में देह व्यापार का काला कारोबार ठप पड़ चुका है.रविशंकर प्रसाद का बड़ा बयान, कहा- नोटबंदी शुरुआत, आधार से रुकेगी आतंकी फंडिंगGoogle की सिक्योरिटी को ठेंगा दिखाते हुए WhatsApp का फर्जी ऐप प्ले स्टोर पर कई दिनों तक रहा

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सिर्फ 1.5 लाख लोगों ने नोटबंदी के बाद 5 लाख करोड़ रुपये जमा किया. प्रसाद के मुताबिक इस फैसले से देश में पैन कार्ड का फर्जीवाड़ा पूरी तरह से खत्म हो चुका है. प्रसाद ने बताया कि जिन कर्मचारियों को कंपनियों से प्रोविडेंट फंड का फायदा नहीं मिलता था अब मिलना शुरू हो गया. है. प्रसाद ने कहा कि नोटबंदी के बाद डिजिटल पेमेंट में हो रहा इजाफा बहुत बड़ा फायदा है. इस प्रक्रिया के बाद देश के कोने-कोने से ग्रामीण इलाकों में लोगों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा गया जिसके बाद अब सरकारी स्कीमों का फायदा सीधे इनके खातों में पहुंच रहा है. यह कदम से सरकारी फंड से बहुत बड़ी चोरी को रोक लिया गया.

देश में टैक्स कलेक्शन में 26 फीसदी की वृद्धि हुआ है. प्रसाद के मुताबिक 130 करोड़ लोगों की जनसंख्या में महज 1-2 लाख लोग अपनी आमदनी 50 लाख रुपए से अधिक बताया करते थे. प्रसाद के मुताबिक नोटबंदी के बाद रियल एस्टेट में कीमतें कम हुई हैं. ऐसा इसलिए हो पाया कि देश में नेताओं समेत कई लोगों का ब्लैकमनी इस सेक्टर में लगा था. लिहाजा, प्रसाद के मुताबिक नोटबंदी के बाद धीरे-धीरे देश  इमानदारी की तरफ बढ़ रहा है.

प्रसाद के मुताबिक मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल के दौरान 6 लाख नई नौकरियां पैदा की गई. प्रसाद के मुताबिक नोटबंदी के बाद जिस तरह से डिजिटल पेमेंट में इजाफा हुआ है उससे देश की डिजिटल इकोनॉमी में बड़ा इजाफा हो रहा है.

श्वेता सिंह ने इस सत्र के दौरान पूछा कि क्या नोटबंदी के बाद अब फर्जीवाड़ा करने वाली कंपनियों की जांच एक लंबी प्रक्रिया है? रविशंकर प्रसाद ने बताया कि यह लंबी प्रक्रिया नहीं है. सरकार के पास जांच के शुरुआती आंकड़े आना शुरू हो गए हैं. लिहाजा अब उन लोगों को जवाब देना होगा कि आखिर उनके पास इतनी बड़ी रकम आई कहां से. प्रसाद ने कहा कि यह देश अकाउंटेबल बन रहा है.

आधार के मुद्दे पर बोलते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आधार के सभी आंकड़े संसद के कानून के तहत सुरक्षित है. देश में 118 करोड़ लोग आधार बनवा चुके हैं, आखिर बचे हुए लोग क्यों आधार नहीं बनवा रहे हैं. प्रसाद के मुताबिक आधार से बैंक अकाउंट जुड़ने के बाद आतंकी गतिविधि पर भी लगाम लगेगी. किसी और के नाम पर कोई फर्जी अकाउंट देश में किसी बैंक में नहीं खोला जा सकेगा. वहीं सुरक्षा के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि यदि आधार के आंकड़ों को रखने वाली कोई एजेंसी कभी कोई डेटा लीक करता पाया जाता है तो उसके खिलाफ कठोर कदम उठाया जाएगा. केन्द्र सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि किसी की निजता पर कोई असर न पड़े.

प्रसाद के मुताबिक पूर्व केन्द्रीय बैंक गवर्नर रघुराम राजन की टिप्पणी आर्थिक सिद्धांतों के खिलाफ है. प्रसाद के मुताबिक यदि मोदी सरकार द्वारा किया गया कांग्रेस सरकार कर रही होती तो रघुराम राजन को कोई आपत्ति नहीं होती. प्रसाद ने कहा कि आखिर रघुराम के बयानों में कोई सार्थकता होती तो क्यों आज दुनिया में भारत को सबसे तेज गति से दौड़ने वाली अर्थव्यवस्था कहा जा रहा है?

You May Also Like

English News