राजधानी शताब्दी में यात्रा करने वालों के लिए मिली अच्छी खबर, टिकट खरीदने से पहले जरूर रखें ये जानकारी

राजधानी, शताब्दी व दूरंतो प्रीमियम ट्रेनों में फ्लैक्सी किराये पर यात्रियों के खराब फीड बैक पर रेलवे इससे राहत देने की कोशिश में जुट गया है।

ये भी पढ़े: आतंकियों के खिलाफ अब 15 साल बाद सरकार उठाने जा रही ये बड़ा कदम 

इसके लिए एक नया प्लान तैयार किया जा रहा है, जिसके तहत इन ट्रेनों में अब दस फीसदी की जगह पचास फीसदी सीटें भरने के बाद ही फ्लैक्सी किराया लागू होगा। रेलवे सूत्रों के अनुसार प्रीमियम ट्रेनों में फ्लैक्सी फॉर्मूले का रिव्यू किया गया, जिसमें पाया गया कि यह प्लान लागू होने के बाद करीब चार हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई हुई और सीटें भी दो फीसदी ज्यादा भरीं।
 

फ्लैक्सी के इस प्लान से रेलवे को मुनाफा तो हो रहा है, लेकिन उसे देश भर में यात्रियों से इस ढंग से ज्यादा किराया वसूलने का बहुत खराब फीड बैक मिला। इसके बाद रेलवे की सामाजिक छवि को इससे नुकसान होने की बात रेलवे के भीतर भी होने लगी तो इसपर विचार शुरू हुआ। सुझाव आया कि हमसफर ट्रेन की तर्ज पर ही फ्लैक्सी किराया शताब्दी, राजधानी व दूरंतो ट्रेनों में लागू किया जाए तो लोगों को इससे करीब आधी राहत मिल सकती है।
 

इसपर रेलवे ने एक नया प्लान तैयार किया है। नए प्लान के तहत इन प्रीमियम ट्रेनों में पचास फीसदी सीटें भरने तक कोई किराया नहीं बढ़ेगा। इसके बाद साठ फीसदी भरने पर दस फीसदी व सत्तर फीसदी भरने पर बीस फीसदी व इसके बाद भी प्रति दस फीसदी पर दस फीसदी किराया बढ़ता रहेगा। सबकुछ ठीक रहा तो जल्द ही इसे लागू कर दिया जाएगा।
 

गौरतलब है कि रेलवे ने इन तीनों महत्वपूर्ण ट्रेनों में आठ माह पूर्व फ्लैक्सी किराया लगाया था। इन ट्रेनों में दस फीसदी सीटें भरने पर हर दस फीसदी के बाद दस फीसदी किराया बढ़ जाता था।
 

You May Also Like

English News