राजपूत होने के बावजूद साथी से कहा ‘पद्मावत देखने जाऊंगा’, दो युवकों ने सुना तो कर दी पिटाई

गुजरात के अंकलेश्वर कस्बे में शनिवार को पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया. इन पर एक व्यक्ति के साथ मारपीट का आरोप है. बताया गया कि एक व्यक्त‍ि राजपूत होने के बावजूद’ पद्मावत फिल्म देखने जाने की बात कर रहा था.इसके इन्होंने युवक की उसकी पिटाई कर दी.

राजपूतशिकायत दर्ज कराने वाले व्यक्ति वडोदरा के रहने वाले उपेन्द्र सिंह जाधव के अनुसार घटना 24 जनवरी की है, जब वह अंकलेश्वर गया था. शिकायत के अनुसार वह एक होटल में बैठा था और वडोदरा के अपने एक मित्र से बात कर रहा था. वह उससे पद्मावत की रिलीज से पहले के हालात पर चर्चा कर रहा था और उसने उसे बताया कि गुजरात में तो फिल्म रिलीज नहीं हो रही है लिहाजा वह मुंबई जाकर फिल्म देखेगा.

जाधव ने पुलिस को बताया कि उस समय वहीं आसपास मौजूद भार्गव सिंह पढियार और रंजीत फुवाद ने उसे बात करते सुन लिया और उस पर यह कहते हुए हमला कर दिया कि राजपूत होने के बावजूद उसकी इतनी मजाल कि वह इस फिल्म को देखने की बात करे और वह भी तब जब करणी सेना इस फिल्म को ने देखने की अपील कर रही है.

आरोपी ने इस पूरे हमले का वीडियो भी बनाया और जाधव से कहा कि वह लिखकर माफी मांगे. यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद जाधव ने पुलिस के पास जाने का फैसला किया. जीआईडीसी अंकलेश्वर थाने के एक अधिकारी ने बताया कि दोनो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में एक अदालत में पेश किया गया.

करणी सेना के तमाम विरोध के बावजूद कुछ राज्यों को छोड़कर बाकी देश में फिल्म पद्मावत रिलीज हो गई. लेकिन करणी सेना का गुस्सा अभी भी बरकरार है. संगठन ने फिर से फिल्म के विरोध की बात कही है.

करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कल्वी ने कहा है कि वे नए सिरे से संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत का विरोध करेंगे. वे शनिवार से हर संभव प्रयास करेंगे कि फिल्म की स्क्रीनिंग रोकी जाए. करणी सेना के प्रमुख कल्वी ने पहले कहा था कि वे 27 जनवरी को चित्तौड़गढ़ में विरोध करेंगे, लेकिन इसकी बजाय उन्होंने दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

You May Also Like

English News