माया ने कसी कमर: BJP को चैन से बठने नहीं दूंगी राज्यसभा से इस्तीफे के बाद, अब हर महीने करुँगी रैली

राज्यसभा से इस्तीफा दे चुकीं बसपा प्रमुख मायावती अब अपना पूरा फोकस उत्तर प्रदेश की राजनीति पर करेंगी. मायावती यूपी में दौरा कर लोगों से मुखातिब होंगी. मायावती 18 सितंबर 2017 से 18 जून 2018 तक यूपी दौरे का कार्यक्रम बनाया है.

वो हर महीने की 18 तारीख को दो मंडलों में एक रैली करेंगी. इसी दिन उस इलाके के अहम नेता/कार्यकर्ताओं से अलग से मुलाकात करेंगी. पहली रैली मेरठ-सहारनपुर में होगी. जून 2018 के बाद के कार्यक्रमों की बाद में घोषणा होगी. हर विधानसभा के हिसाब से मायावती का कार्यक्रम बनेगा. मायावती ने कहा कि 18 तारीख इसलिए चुनी क्योंकि 18 जुलाई को मैंने राज्यसभा से इस्तीफा दिया था. कार्यकर्ता वो दिन भूलना नहीं चाहते. बीजेपी का पर्दाफाश करूंगी. बीजेपी जातिवादी, पूंजीवादी, दलित विरोधी पार्टी है. बीजेपी को चैन से बैठने नहीं दूंगी. यूपी के अलावा देशभर में बीजेपी के तानाशाही रवैये और दलित विरोधी नीति का देशभर में पर्दाफाश करूंगी. देशभर में बीजेपी को चैन से नहीं बैठने दूंगी.

इस अफसर ने की PM मोदी से मन की बात करने के बाद हुआ सस्पेंड, जानिए क्या है पूरा वाकया…

राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद मायावती अब संगठन के कील कांटे दुरुस्त करने जा रही हैं. इसी लिहाज से उन्होंने 23 जुलाई को पार्टी के नेताओं और कोऑर्डिनेटरों की बैठक बुलाई. संसद के इसी मानसून सत्र में दलित अत्याचार के मुद्दे पर राज्यसभा में ना बोलने देने का आरोप लगाते हुए मायावती ने राज्यसभा से ही इस्तीफा दे दिया था.

अभी-अभी: बुरा फंसा चीन, ट्रंप ने नेवी को दी खुली छुट, भारत के प्रति चीन की छोटी सी गलती और…

मायावती के निशाने पर बीजेपी हैं. दलित अत्याचार के मुद्दे के जरिए मायावती की कोशिश दलित वोट बैंक को एकजुट रखने की है. इसके लिए मायावती ने बीजेपी राज में दलितों पर अत्याचार का मुद्दा प्रमुखता से उठने की रणनीति बनाई है. मायावती बीजेपी पर केंद्रीय एजेंसी सीबीआई का उनके और उनके परिवार के खिलाफ गलत इस्तेमाल का आरोप पहले ही लगा चुकी हैं. साथ ही माया अपनी राज्य सभा की सदस्यता की कुर्बानी बताकर भुनाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ेंगी.

 

You May Also Like

English News