राज्य सभा निर्वाचन के लिए जेटली, रविशंकर प्रसाद समेत कई दिग्गजों ने पर्चे भरे

राज्यसभा के लिए  23 मार्च को चुनाव होने हैं। भाजपा और कांग्रेस सहित आज कई दिग्गज नेताओं ने विभिन्न राज्यों से अपना नामांकन दाखिल किया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जहां उत्तर प्रदेश से, वहीं धर्मेंद्र प्रधान ने मध्यप्रदेश से, बिहार से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अपना नामांकन दाखिल किया।  राज्य सभा निर्वाचन के लिए जेटली, रविशंकर प्रसाद समेत कई दिग्गजों ने पर्चे भरेजबकि कांग्रेस पार्टी की अमी याजनिक ने गुजरात के गांधीनगर से वहीं महाराष्ट्र से वरिष्ठ पत्रकार कुमार केतकर ने अपना नामांकन दाखिल किया। वहीं स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने हिमाचल प्रदेश से अपना नामांकन 8 मार्च को ही दाखिल किया था लेकिन कांग्रेस की तरफ से नामांकन दाखिल न होने के कारण उनका निर्विरोध चुना जाना लगभग तय माना जा रहा है। 

आज जब अरूण जेटली नामांकन करने पहुंचे तो उनके साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय, डिप्टी सीएम केशव मौर्य, मंत्री सतीश महाना और कई भाजपा नेता उपस्थित रहे।

भाजपा ने उत्तर प्रदेश से आठ प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। इनमें से सात उम्मीदवारों में डॉ. अशोक वाजपेयी, विजय पाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, कांता कर्दम, हरनाथ सिंह यादव, डॉ. अनिल जैन, जीवीएल नरसिम्हाराव की घोषणा रविवार को की गई। वहीं, वित्तमंत्री अरुण जेटली को उत्तर प्रदेश से पहले ही उम्मीदवार घोषित किया जा चुका था। जबकि अशोक वाजपेयी पिछले साल सपा छोड़कर भाजपा में आए थे।

भोपाल में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत, बीजेपी नेता कैलाश सोनी और अजय प्रताप सिंह ने भी नॉमिनेशन दाखिल किया। इस मौके पर भोपाल के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान और राज्य में बीजेपी अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान भी मौजूद थे। 

राज्यसभा की 58 सीटों के लिए 23 मार्च को चुनाव होने हैं

गौरतलब है कि राज्यसभा की 58 सीटों के लिए 23 मार्च को चुनाव होने हैं। भाजपा के 17 सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। पार्टी को इन 17 सीटों के अतिरिक्त करीब 13 अतिरिक्त सीटें हासिल होंगी, जिनमें चार मनोनीत सीटें भी शामिल हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा का फिर निर्विरोध राज्यसभा जाना तय हो गया है। नड्डा के खिलाफ कांग्रेस ने प्रत्याशी नहीं उतारने का निर्णय लिया है। हिमाचल से राज्यसभा की एक सीट पर नड्डा ने 8 मार्च को नामांकन दाखिल किया था। 12 मार्च नामांकन की अंतिम तिथि है। कांग्रेस के प्रत्याशी नहीं उतारने की स्थिति में अब मतदान नहीं होगा। 

नड्डा का मौजूदा कार्यकाल 2 अप्रैल को खत्म हो रहा है। कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार न खड़े करने का निर्णय लिया है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता नरेश चौहान ने कहा कि पूर्व में आनंद शर्मा और विप्लव ठाकुर के चुनावों के समय भी तत्कालीन विपक्ष ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था।

You May Also Like

English News