रात में बताया मृत, सुबह जिंदा मिला युवक, अगले दिन तोड़ा दम

सोनीपत के खानपुर स्थित भगत फूल सिंह मेडिकल कॉलेज में डाक्टरों की लापरवाही सामने आई है। बुधवार रात को डाक्टरों ने एक युवक को मृत घोषित कर दिया, लेकिन गुरुवार सुबह जब डॉक्टर पोस्टमार्टम करने पहुंचा तो वह जिंदा मिला। हालांकि बाद में शुक्रवार को उसकी मौत हो गई। उधर, पुलिस ने मृतक की सास समेत दो महिलाओं पर केस दर्ज किया है।सोनीपत के खानपुर स्थित भगत फूल सिंह मेडिकल कॉलेज में डाक्टरों की लापरवाही सामने आई है। बुधवार रात को डाक्टरों ने एक युवक को मृत घोषित कर दिया, लेकिन गुरुवार सुबह जब डॉक्टर पोस्टमार्टम करने पहुंचा तो वह जिंदा मिला। हालांकि बाद में शुक्रवार को उसकी मौत हो गई। उधर, पुलिस ने मृतक की सास समेत दो महिलाओं पर केस दर्ज किया है।  पुलिस के अनुसार बबैल रोड भारत नगर निवासी सैलून संचालक सुनील ने रविवार रात को घर से बाहर जाकर हाथ की नस काट ली थी। सोमवार सुबह परिजनों ने उसे सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया, जहां से उसे खानपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।  परिजनों के अनुसार मेडिकल कॉलेज खानपुर के एक डाक्टर ने बुधवार रात को सुनील को मृत घोषित कर उसे शवगृह में रखवा दिया। मगर गुरुवार सुबह जब डॉक्टर पोस्टमार्टम करने पहुंचे तो वह जिदा मिला। इसके बाद डाक्टरों ने फिर से उसका इलाज शुरू किया। परिजनों की माने तो सुनील ने गुरुवार को दिनभर उनसे बातचीत की। बाद में शुक्रवार तड़के करीब 4ः30 बजे उसने दम तोड़ दिया।  पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने पर परिजनों ने जाम लगाने की चेतावनी दी। इसी बीच सुनील के दोस्तों ने नगर विधायक को फोन कर दिया। विधायक के कहने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की। परिजनों के अनुसार सुनील ने तीन पेज का सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें उसने अपनी पत्नी, सास और ससुर समेत 11 लोगों पर आरोप लगाए हैं।  परिजनों के बयानों के आधार पर सुनील की सास समेत दो महिलाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। परिजनों ने सुसाइड नोट नहीं दिया है। इस मामले में किसी तरह के सुबूत मिलते हैं तो कार्रवाई की जाएगी। वहीं डॉक्टरों की लापरवाही मामले में शिकायत नहीं मिली है।

पुलिस के अनुसार बबैल रोड भारत नगर निवासी सैलून संचालक सुनील ने रविवार रात को घर से बाहर जाकर हाथ की नस काट ली थी। सोमवार सुबह परिजनों ने उसे सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया, जहां से उसे खानपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।

परिजनों के अनुसार मेडिकल कॉलेज खानपुर के एक डाक्टर ने बुधवार रात को सुनील को मृत घोषित कर उसे शवगृह में रखवा दिया। मगर गुरुवार सुबह जब डॉक्टर पोस्टमार्टम करने पहुंचे तो वह जिदा मिला। इसके बाद डाक्टरों ने फिर से उसका इलाज शुरू किया। परिजनों की माने तो सुनील ने गुरुवार को दिनभर उनसे बातचीत की। बाद में शुक्रवार तड़के करीब 4ः30 बजे उसने दम तोड़ दिया।

पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने पर परिजनों ने जाम लगाने की चेतावनी दी। इसी बीच सुनील के दोस्तों ने नगर विधायक को फोन कर दिया। विधायक के कहने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की। परिजनों के अनुसार सुनील ने तीन पेज का सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें उसने अपनी पत्नी, सास और ससुर समेत 11 लोगों पर आरोप लगाए हैं।

परिजनों के बयानों के आधार पर सुनील की सास समेत दो महिलाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। परिजनों ने सुसाइड नोट नहीं दिया है। इस मामले में किसी तरह के सुबूत मिलते हैं तो कार्रवाई की जाएगी। वहीं डॉक्टरों की लापरवाही मामले में शिकायत नहीं मिली है।

You May Also Like

English News