राष्ट्रपति चुनावः शिवपाल-मुलायम द्वारा कोविंद के समर्थन पर, CM योगी ने कहा….

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार की सुबह राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे मतदान में वोट करने के बाद एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन करने के लिए शिवपाल यादव और मुलायम सिंह यादव को धन्यवाद दिया. योगी ने कहा कि ये उत्तर प्रदेश का सौभाग्य है कि अगला राष्ट्रपति यहां से होने जा रहे हैं. अगर संख्या बल के हिसाब से देखा जाए तो एनडीए का उम्मीदवार का जीतना तय है.राष्ट्रपति चुनावः शिवपाल-मुलायम द्वारा कोविंद के समर्थन पर, CM योगी ने कहा....

लेकिन हर पार्टी की अपनी विचारधारा होती है और उसके हिसाब से चुनाव लड़ा जाता है सिर्फ जीत का सवाल नहीं है. कांग्रेस ने सिर्फ राजनीति के लिए उम्मीदवार खड़ा किया है. उनका मकसद एक दूसरे से लड़ाना है. बेहतर होता कि इस मुद्दे पर आम सहमति होती.

बता दें कि देश के नए राष्ट्रपति चुनने की प्रक्रिया में सोमवार को वोट डाले जा रहे हैं. एनडीए की ओर से रामनाथ कोविंद और विपक्ष की ओर से मीरा कुमार के बीच राष्ट्रपति पद के लिए मुकाबला है. यूं तो आंकड़े रामनाथ कोविंद के पक्ष में जा रहे हैं लेकिन विपक्ष लगातार कह रहा है कि वह इस चुनाव को पूरी ताकत से लड़ रहे हैं.

आतंकियों को पाकिस्तान का वीजा दिला रहा हुर्रियत, जानें क्या है साजिश..?

राजीव रूडी बोले- कोविंद ही बनेंगे राष्ट्रपति

केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी बोले कि यह बात ठीक है कि लोग अपनी अंतरात्मा की आवाज पर ही वोट डालेंगे, सबके मन की यही बात है कि NDA ने एक अच्छा उम्मीदवार दिया है वही राष्ट्रपति बने. उन्होंने कहा कि मायावती भले ही कहें कि दलित उम्मीदवार उनकी वजह से है लेकिन दलित हमारे भी हैं सिर्फ उनके नहीं.

अपने बयान पर विचार करें सोनिया- रविशंकर प्रसाद

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी कह रही हैं कि यह राष्ट्रपति चुनाव बांटने वाली सोच और सेक्युलर फोर्स के बीच है. तो उन्हें बताना चाहिए कि नीतीश कुमार हमारे साथ क्यों हैं. सोनिया गांधी को अपने बयान पर विचार करना चाहिए.

जानिए ऐसी कौन सी अधूरी ख्वाहिश थी आलिया भट्ट की, जो आज हो गई पूरी….

पीएम को कोविंद की जीत का भरोसा

चुनाव से एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि एनडीए के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को चालीस दलों का समर्थन हासिल है और उन्हें विश्वास है कि कोविंद की जीत होगी. संसद के मानसून सत्र के शुरू होने की पूर्व संध्या पर मोदी ने एनडीए से संबंध सांसदों की बैठक में गठबंधन के सभी सांसदों और विधायकों से राष्ट्रपति चुनाव में मतदान की अपील की.

इस बार के राष्ट्रपति चुनाव ऐतिहासिक हैं। संभवत: पहली बार किसी भी दल ने दूसरे उम्मीदवार पर अमर्यादित टिप्पणी या बेवजह बयानबाजी नहीं की।

 

सोनिया ने कहा- पूरी ताकत से लड़ेंगे

राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाकात की. इस दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि हमारी यह बैठक न सिर्फ देश के बहुलतावादी लोकतंत्र की रक्षा के लिए है, बल्कि हमारी साझा सोच को भी दर्शाती है. इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमारा भविष्य जीवन से बुनियादी मूल्यों पर है और हमें इसकी रक्षा करना चाहिए. उन्होंने कहा मौजूदा राष्ट्रपति चुनाव में भले ही आंकड़े हमारे पक्ष में ना हो लेकिन ये लड़ाई पूरी ताकत से लड़ी जानी चाहिए.

बता दें कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है, जिसके अगले दिन यानी 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति पदभार ग्रहण करेंगे. सियासी समीकरणों को देखें तो इस चुनाव में एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की जीत पक्की मानी जा रही है. राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ में शामिल दोनों उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और मीरा कुमार दलित समुदाय से आते हैं और उन्होंने देशभर में घूम-घूम कर विधायकों का समर्थन हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की है.

आंकड़ों की बात की जाए तो बिहार के पूर्व राज्यपाल कोविंद की दावेदारी मजबूत नजर आ रही है, क्योंकि उन्हें एनडीए के अलावा जेडीयू और बीजू जनता दल (बीजेडी) जैसे विपक्षी दलों का भी समर्थन हासिल है. यहां जेडीयू के पास निर्वाचक मंडल का कुल 1.91 फीसदी वोट है, जबकि बीजेडी के पास 2.99 फीसदी वोट है. इसके अलावा तेलंगाना में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के पास 2%, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) का एक गुट (5.39 %) और वाईएसआर कांग्रेस (1.53%) ने भी कोविंद के पक्ष में मतदान करने की घोषणा की है.

You May Also Like

English News