राष्ट्रपति चुनाव के दिन केजरीवाल ने दिया बड़ा बयान, कहा- विधायक सुनें अपने अंतर आत्मा की आवाज…

विधानसभा में सोमवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए जनप्रतिनिधियों ने वोट डाले। विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत उनके मंत्रिमंडल के सभी सहयोगी व आम आदमी पार्टी (आप) और नेता प्रतिपक्ष विजेेंद्र गुप्ता ने मताधिकार का प्रयोग किया।राष्ट्रपति चुनाव के दिन केजरीवाल ने दिया बड़ा बयान, कहा- विधायक सुनें अपने अंतर आत्मा की आवाज...बड़ी खुशखबरी: यूपी के हर स्टूडेंट को सरकार देगी स्कॉ‌लरशिप, 50 लाख विद्यार्थियों को होगा अधिक फायदा…

खास बात यह कि वोट देने के बाद केजरीवाल के सुर बदल गए। पार्टी के यूपीए उम्मीदवार के समर्थन करने के फैसले के उलट उन्होंने कहा कि विधायकों को अंतरआत्मा की आवाज पर वोट देना चाहिए।

वोट डालने के बाद अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चुनाव में जिसके पास संख्या होती है, वही जीतता है। आप ने मीरा कुमार को समर्थन करने का फैसला किया है। आप विधायकों को अपनी अंतरआत्मा की आवाज सुननी चाहिए।

वहीं, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि देश के सर्वोच्च पद के लिए वोट करना गर्व की बात है। चुनाव में देश को जीतना चाहिए। क्रॉस वोटिंग से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि यह देखना होगा कि कौन किसके पक्ष में लोकतांत्रिक मूल्यों को जगह देगा?
        
मुख्यमंत्री की टिप्पणी पर नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल ने अपने विधायकों को इशारा कर दिया है कि वह अपनी आत्मा की आवाज सुनें। आप में कोई उत्साह नहीं है। दूसरे राज्यों से भी जो रिपोर्ट आ रही है, उसमें एनडीए उम्मीदवार के पक्ष में क्रास वोटिंग हो रही है।

गुप्ता ने दिल्ली में भी 10-12 विधायकों के क्रास वोटिंग की आशंका जताई। बता दें कि आप के राजनीतिक मामलों की समिति ने फैसला किया था कि वह यूपीए उम्मीदवार को समर्थन करेंगे। इसके लिये पार्टी ने विधायकों को निर्देश भी दिया था। बावजूद इसके वोटिंग के वक्त मुख्यमंत्री ने विधायकों से अंतरआत्मा की आवाज सुनने की अपील की ।

आप की नीतियों के विरोध में नहीं दिया वोट : सेहरावत    
70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा के 69 विधायकों में से 67 ने राष्ट्रपति चुनाव में वोट डाला। निगम चुनाव से पहले बवाना के आप विधायक के भाजपा में शामिल होने से यह सीट खाली है।

इस पर चुनाव होना है। वहीं, आप विधायक सौरभ भरद्वाज विदेश में हैं। जबकि निजी वजहों से बिजवासन विधायक देवेंद्र सेहरावत ने वोट नहीं डाला। आप के 63 और भाजपा के 4 विधायकों ने अपने मत का प्रयोग किया।

देर शाम देवेंद्र सेहरावत ने मीडिया में अपना बयान जारी किया। उनका कहना था कि आप की नीतियों के विरोध में उन्होंने वोट नहीं दिया। उनका आरोप है कि 54 करोड़ रुपये के उनके इलाके के एक प्रोजेक्ट को दिल्ली जल बोर्ड ने लटका रखा है।

जबकि पिछले हफ्ते प्रोटोकाल होने के बावजूद उनके इलाके में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के एक कार्यक्रम में उन्हें नहीं बुलाया गया। इसी तरह विकास कार्यों से जुड़ी दूसरे प्रोजेक्ट में रोड़ा अटकाने का सेहरावत ने आरोप लगाया है।

10-12 विधायकों ने की होगी क्रॉस वोटिंग!  

वोटिंग प्रक्रिया समाप्त होने के बाद भाजपा विधायक विजेंद्र गुप्ता, ओपी शर्मा व मनजिंदर सिंह सिरसा ने दावा किया कि आप के कई विधायकों ने एनडीए उम्मीदवार को वोट दिया है। उन्होंने क्रास वोटिंग करने वाले विधायकों की संख्या 10-12 के बीच बताई।

भाजपा विधायकों ने कहा कि पार्टी के नेतृत्व से काफी खफा है। चुनाव में व्ह्पि लागू न होने से इसकी संभावना है कि विधायकों ने अपनी नाराजगी दिखायी हो। विजेंद्र गुप्ता ने बताया कि पंजाब में भी आप के बड़े नेता एचएस फुलका ने भी वोट करने से इनकार कर दिया।            
           
पक्ष व विपक्ष के बीच दिखी गर्मजोशी            
विधानसभा में अमूमन तल्ख तेवरों में नजर आने वाले नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत दूसरे नेताओं से मुलाकात में गर्मजोशी दिखाई। केजरीवाल के आने पर दोनों ने एक-दूसरे का अभिवादन स्वीकार किया।

मीडिया के बीच भी केजरीवाल व गुप्ता साथ-साथ दिखे। जबकि विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल, अलका लांबा, नरेश यादव व संजीव झा के संग भी विजेंद्र गुप्ता काफी समय तक रहे। वहीं, कपिल मिश्रा से बड़ी गर्मजोशी से भाजपा विधायक ओपी शर्मा से हाथ मिलाया। सभी नेताओं ने मीडिया को विक्ट्री की साइन दिखायी। 

You May Also Like

English News