राष्ट्रपति ट्रंप को लगा बड़ा झटका : ‘ओबमाकेयर’ को खत्म करने वाला विधेयक सीनेट से खारिज

अमेरिकी सीनेट ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए ‘ओबामाकेयर’ बिल समाप्त करने का विरोध कर दिया. सीनेट ने ‘ओबामाकेयर’ के नाम से जाने जाने वाले ‘अफोर्डेबल हेल्थ केयर’ को निरस्त करने संबंधी विधेयक को खारिज कर दिया है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ‘ओबामाकेयर’ की लगातार आलोचना करते रहे हैं. ‘ओबामाकेयर’ की जगह दो साल में नया विधेयक लाने की बात करने वाला विधेयक रिपब्लिकन नेताओं के बहुमत वाले सीनेट ने बुधवार को 45 के मुकाबले 55 मतों से खारिज कर दिया.राष्ट्रपति ट्रंप को लगा बड़ा झटका : 'ओबमाकेयर' को खत्म करने वाला विधेयक सीनेट से खारिजश्रीलंका ने चीन को दिया तगड़ा झटका, हम्बनटोटा पोर्ट पर नियंत्रण को कैबिनेट ने दी मंजूरी
इससे पहले सदन ने मंगलवार को स्वास्थ्यसेवा कार्यक्रम को हटाने पर बहस शुरू करने के लिए मतदान किया था. उस कार्यक्रम पर 23 मार्च 2010 को पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने हस्ताक्षर किए थे. ‘ओबामाकेयर’ के तहत करीब दो करोड़ अमेरिकियों को स्वास्थ्य सेवा कवरेज मिली थी, लेकिन रिपब्लिकन नेताओं का कहना है कि यह संघीय सरकार की अनावश्यक दखलअंदाजी है. उनका कहना है कि इसमें प्रीमियम ज्यादा थे, जबकि मरीजों के सामने विकल्प कम थे. गौरतलब है कि मतदान से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने स्वास्थ्य देखभाल बिल का विरोध करने वाले सदस्यों को स्पष्ट शब्दों में गंभीर परिणाम की धमकी दी थी. उन्होंने कहा था कि कोई भी सीनेटर जो ओबामाकेयर के समर्थन और मेरे बिल के विरोध में वोट डालेगा उसे कई मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा.

‘ओबामाकेयर’ क्या है?

अमेरिकी लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के उद्देश्य से पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जो हेल्थकेयर प्लान शुरू किया, उसे ही ‘ओबामाकेयर’ के नाम से जाना जाता है. इसका आधिकारिक नाम द पेशंट प्रोटेक्शन एंड अफोर्डेबल केयर एक्ट (पीपीएसीए) है. 23 मार्च 2010 को इस बारे में कानून बना था. इस कानून का मकसद अमेरिका में हेल्थ इंश्योरेंस की क्वॉलिटी और अफोर्डिबिलिटी को बढ़ाना और स्वास्थ्य मामलों पर लोगों द्वारा खर्च की जानेवाली रकम को कम करना था.

You May Also Like

English News