राहुल गांधी मिलने पहुचे, बॉर्डर पर पीड़ित परिवारों से और बोले- मारे गए किसानों को मिले शहीद का दर्जा

मध्यप्रदेश- राजस्थान बॉर्डर पर हिरासत में लिए गए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को जमानत पर रिहा कर दिया गया है। करीब दो घंटे हिरासत में रहने के बाद राहुल को छोड़ा गया। इससे पहले राहुल गांधी ने जमानत लेने से इनकार कर दिया था। लेकिन जब प्रशासन ने उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने की इजाजत दे दी तो उन्होंने जमानत लेना स्वीकार कर लिया। अब राजस्थान-मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर पीड़ित किसानों से मुलाकात करेंगे।राहुल गांधी मिलने पहुचे, बॉर्डर पर पीड़ित परिवारों से और बोले- मारे गए किसानों को मिले शहीद का दर्जा

अभी अभी: GST से कस्टमर्स ही नहीं पूरी भारतीय गोल्ड इंडस्ट्री को होगा फायदा: रिपोर्ट

इससे पहले आंदोलन के दौरान पुलिस फायरिंग में मारे गए 5 किसानों के परिजनों से मिलने के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी उदयपुर पहुंचे। यहां पहुंचने के बाद राहुल मंदसौर के लिए बाइक पर ही रवाना हो गए हैं। एमपी जाने की जानकारी राहुल ने कल ट्वीट कर दी थी कि वह आंदोलन कर रहे किसानों से मिलने जाएंगे। साथ ही वह मृत किसानों के परिवार से भी मिलेंगे।

राहुल गांधी मृतक किसानों के परिवार से फोन पर बात कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि जब तक उनसे मिलने की इजाजत नहीं मिलेगी, तब तक वह लौटकर नहीं जाएंगे। 

वहीं, इस मामले में सचिन पायलट ने कहा कि पीड़ितों के परिवार के लोग हम से मात्र 1 किमी की दूरी पर हैं, वे हमसे मिलना चाहते हैं। लेकिन पुलिस हमें जाने से रोक रही है
 

मंदसौर में किसान मामले को लेकर राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “कर्जा माफ होता तो हिन्दुस्तान के सबसे 50 अमीर लोगों का, किसानो का नहीं।” उन्होंने अगले ट्वीट में कहा कि किसानो की मांग है कि इन्हें शहीद का दर्जा मिलना चाहिए और इस मामले में कांग्रेस ने ये बात उठाई है और उन्हें पूरी मदद करेगी। 

 ये भी पढ़े-
– राहुल गांधी को पुलिस ने धारा 151 के तहत नीमच में गिरफ्तार कर लिया है।
– राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि राजस्थान और मध्य प्रदेश सरकार उन्हें रोकने की हर कोशिश कर रही है।
– राहुल गांधी को मंदसौर जाने की इजाजत नहीं है इसके बावजूद वे वहां के लिए बाइक पर ही रवाना हो गए।
– राहुल बोले कि पीएम मोदी और शिवराज किसानों को सिर्फ गोलियां दे सकते हैं। 
– उन्होंने कहा कि न तो किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा और न ही उन्हें बोनस देते हैं।
– मंदसौर के एसपी ओपी श्रीवास्तव ने कहा कि मामले में 62 लोगों को हिरासत में लिया गया है।
– केंद्रीय मंत्री नायडू ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में भी किसान आंदोलन हुए हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी घटनास्थल पर फोटो खिंचवाने जाते हैं।
– मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने माना है कि पुलि फायरिंग में 5 किसानों की मौत हुई है।
– मध्यप्रदेश पुलिस ने राजस्थान से लगते बॉर्डर को सील कर दिया है। मंदसौर राजस्थान-मध्यप्रदेश बॉर्डर का करीबी जिला है। 
– योग गुरू बाबा रामदेव बोले कांग्रेस आग में घी डालने का काम कर रही है यानि आंदोलन को बढ़ावा दे रही है।
– राहुल गांधी के रोके जाने पर कांग्रेस की ओर से नेता सचिन पायलेट बोले की बीजेपी राजनीति कर रही है।
– सचिन बोले बीजेपी किसानों से मिलने नहीं दे रही है।
– किसान आंदोलन इस कदर बेकाबू हो गया है कि टोल प्लाजा से करीब 10 लाख रुपये लूट लिए गए हैं।
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आम आदमी पार्टी के बड़े नेता कल मंदसौर पहुंच सकते हैं।
-सरकार ने बुधवार देर रात पीएम मोदी की मंत्रियों के साथ हुई आपातकालिन बैठक के बाद यह फैसला लिया है।
मंदसौर के कलेक्टर स्वतंत्र सिंह का तबादला कर दिया गया है और ओम प्रकाश श्रीवास्तव को जिले का नया कलेक्टर नियुक्त किया गया है।
बात दें कि 1 जून को किसानों ने अपनी फसल की अच्छी कीमत के लिए एक दिवसीय प्रदर्शन आयोजित किया। 3 दिन बाद यानी 4 जून को सीहोर, इंदौर और भोपाल में किसानों और पुलिस के बीच झड़प हुई, जिसमें 6 पुलिसकर्मी घायल हो गए। जिसके बाद मंगलवार को मंदसौर में पुलिस फायरिंग में 6 किसानों की मौत हो गई। 

मंदसौर जिले के बरखेड़ा पंत में पुलिस की फायरिंग में मारे 6 लोगों में एक स्टूडेंट भी शामिल था। जिसके बाद स्टू़डेंट का शव रोड पर रखकर किसानों ने चक्का जाम किया। किसानों मांग कर रहे थे कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद आएं और फायरिंग करने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लेने का वादा करें। इस मामले को ठंडा करने के लिए एसपी ओपी त्रिपाठी और कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह बरखेड़ा पंत पहुंचे थे।

डीएम को पीटा और कपड़े फाड़े
इसके बाद अचानक से एक किसान ने कलेक्टर को पीछे से सिर पर चांटा मारा। साथ ही उनके साथ बदतमीजी की और उनके कपड़े भी फाड़ दिए। हालांकि, बाद में छात्र के परिजन उसका अंतिम संस्कार करने के लिए राजी हो गए। कलेक्टर ने मृतक छात्र अभिषेक के परिजनों को उसका स्मारक बनाने का आश्वासन दिया है।
बता दें कि मध्यप्रदेश के मंदसौर, पिपलिया मंडी, नारायणगढ़ और मल्हारगढ़ में कर्फ्यू लगा हुआ है। इसके अलावा दलोदा और सुमात्रा में भी धारा 144 लगाई गई है। मंदसौर में सभी मोबाइल सेवा भी निलंबित कर दी गई है।

You May Also Like

English News