राहुल गांधी: हाथ का मतलब डरो मत सच्चाई का सामना करो

नोटबंदी के खिलाफ चल रहे कांग्रेस के जनवेदना सम्मेलन में एक बार फिर राहुल गांधी ने नोटबंदी समेत तमाम कई मुद्दों पर मौजूदा मोदी सरकार पर हमला किया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार का नोटबंदी कमजोर फैसला है। राहुल गांधी ने कहा कि हाथ का मतलब है डरो मत परिस्थितियों का सामना करो। राहुल ने कहा कि हम सच्चाई का सामना करेंगे। मोदी सरकार ने नोटबंदी से लोगों को डरा दिया है। किसानों को डरने की जरूरत नहीं है।
राहुल गांधी: हाथ का मतलब डरो मत सच्चाई का सामना करो

-प्रेस वाले मेरे पीछे पड़े रहते हैं लेकिन मैंने उन्हें भी कहा डरो मत। ये सोचते हैं पूरा देश बेवकूफ है
-बीजेपी प्रेस वालों को डराते हैं क्या केवल नरेंद्र मोदी ही देश को बनाएंगे बाकी सारे बेवकूफ हैं? ये देश अक्लमंद है बेवकूफ नहीं।सिर्फ मोदी जी देश नहीं बदल सकते हैं। राहुल ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के पहले बीजेपी वालों जमीनें खरीदी।

– जनवेदना सम्मेलन में बोलते हुए पूर्व मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी देश के लिए आपदा के समान है। देश एक बुरी स्थिति से गुजर रहा है और इसका सबसे बुरा समय आना बाकी है। ये एक अंत की शुरुआत है। 

बड़ी खबर: सोनिया गांधी की तबियत अचानक बिगड़ी, डॉक्टर्स की टीम पहुंची घर

– मनमोहन सिंह ने कहा मोदी लगातार कहते रहे हैं कि वो देश की उन्नति और अर्थव्यवस्था को मजबूत करने आये हैं पर इतने दिनों को देखने के बाद पता चला कि उनके सभी वादे खोखले हैं। उनकी नीतियों को देश ने सिरे से नकार दिया है। 

– राहुल गांधी ने पीएम मोदी का मजाक उड़ाते हुए कहा कि जिन्हें योग नहीं आता उन्हें पद्मायन नहीं कर चाहिए।

– ढाई साल पहले मोदी जी आए और कहा कि मैं देश को साफ करूंगा, उन्होंने झाड़ु पकड़ी और 3-4 दिन चला कर फिर भूल गए। उन्हें लगा कि देश साफ हो गया

– नोटबंदी की सभी अर्थशास्त्रियों ने निंदा की, लेकिन इस सरकार के पास अपना होममेड अर्थशास्त्री हैं। इस सरकार के अर्थशास्त्री रामदेव हैं। 

– राहुल गांधी ने कहा कि आज मीडिया के लोग खुलकर बोल नहीं पा रहे हैं। वे कहते हैं कि अब हवा बदल गई है।

–  राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों ने देश को 10 साल पीछे कर दिया।

– पीएम मोदी लोकतांत्रिक संस्थाओँ को कमजोर करने में लगे हैं। ये संस्थाएं ही देश की आत्मा हैं। ये लोग देश की आत्मा को खत्म करने में लगे हैं: राहुल गांधी

– बीजेपी और हमारे PM हमेशा यह पूछते हैं कि कांग्रेस ने पिछले 70 सालों में क्या किया, जनता को मालूम है कि हमने क्या किया। हमारे नेताओं ने इस देश के लिए खून और आंसू बहाए हैं।

– नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने दुनिया का सबसे बड़ा आर्थिक प्रयोग हंसते-खलते मजाक में ले लिया। उन्होंने देश के लोगों के खून-पसीने की कमाई को रद्दी में बदल दिया।

– पीएम मोदी का नोटबंदी का फैसला पूरी तरह अपरिपक्व फैसला था। नोटबंदी की वजह से कई लोगों की नौकरी चली गई।

बड़ी खबर: राजनाथ ने BSF और सुरक्षा एजेंसियों को लताड़ा

– राहुल ने कहा कि पीएम मोदी के फैसले ने देश के अर्थव्यवस्था की रीढ़ तोड़ दी। पीएम को देश के किसानों और गरीबों के साथ कुछ वक्त बिताना चाहिए।

– मोदी जी बताना चाहते हैं कि इस देश को अब सिर्फ मोहन भागवत और दो-तीन लोग ही चलाएंगे।

– देश के अच्छे दिन तभी आएंंगे जब 2019 में कांग्रेस के सत्ता में आएगी: राहुल गांधी

– इस सम्मेलन में कांग्रेस नोटबंदी के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने की तैयारियों पर चर्चा की। राहुल गांधी की अध्यक्षता में हो रहे सम्मेलन में देश भर से तकरीबन 5000 कांग्रसी नेता और कार्यकर्ता हिस्सा लिया। जन वेदना सम्मेलना में पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की रणनीति पर भी चर्चा की गयी।

– कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक और पार्टी के स्थापना दिवस के बाद ये तीसरा बड़ा मौका है जब राहुल गांधी ने कांग्रेस के किसी सम्मेलन की अध्यक्षता की। इसे राहुल की अध्यक्ष पद पर ताजपोशी के संकेत के तौर पर भी देखा जा रहा है।

– कांग्रेस जन-वेदना सम्मेलन के माध्यम से सीधे तौर पर केंद्र सरकार के खिलाफ जनआंदोलन छेडने की तैयारी कर रही है। वहीं कांग्रेस हर हाल यूपी में अपनी मौजूदगी दिखाना चाहती है। यूपी को लेकर प्रियंका लगातार वहां के नेताओं के संपर्क में हैं। 

सोनिया पीछे हटीं, राहुल के घर पर शिफ्ट हुआ कांग्रेस का पॉवर सेंटर

कांग्रेस का केंद्र अब 10 जनपथ (सोनिया गांधी का आवास)की जगह 12 तुगलेक लेन (राहुल गांधी का आवास) बन गया है। विदेश से लौटे राहुल से मिलने के लिए मंगलवार को कांग्रेस  अध्यक्ष सोनिया गांधी और राजनीतिक कामकाज में राहुल का हाथ बंटाने वाली  प्रियंका वाड्रा 12 तुगलक लेन पहुंची। इसके बाद कई वरिष्ठ नेता भी उनके  आवास पर मिलने  पहुंचे। बैठकों के इस दौर के बाद राहुल सोनिया को खुद गाड़ी ड्राइव कर उन्हें 10 जनपथ छोड़ने गए। 
उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनाने की औपचारिक घोषणा भर होनी है। बुधवार को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में होने वाले जन-वेदना सम्मेलन की अध्यक्षता राहुल ने ही की। कांग्रेस अध्यक्ष देश भर से जुट रहे प्रतिनिधियों को मैसेज देना चाहती है कि उन्होंने पार्टी की बागडोर राहुल को सौंप दी है। बता दें कि 8 नवंबर को भी सोनिया के कार्यसमिति की बैठक में न आने पर राहुल ने अध्यक्षता की थी।कांग्रेस के बड़े नेता अब खुलकर कहने लगे है कि पार्टी का हस्तांतरण राहुल को हो चुका है। जिस पर कभी भी मुहर लग जाएगी। पांच राज्यों में चुनाव से संबंधित हाल में जो कमेटियां बनीं और फैसले लिए जा रहे हैं उसमें राहुल की ही भूमिका है। 

राहुल खुद ड्राइव करके सोनिया को घर छोड़कर आए

राहुल के आवास तुगलक लेन से दस जनपथ के बीच गुजरने वालों के लिए नजारा उस समय दिलचस्प रहा जब सड़क पर राहुल गांधी खुद गाड़ी ड्राइव करके मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को छोडने उनके आवास तक आए। 

 
 

You May Also Like

English News