राहुल से बात करने के बाद नीतीश ने दिया गोपालकृष्ण को समर्थन का भरोसा

विपक्ष ने उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने उम्मीदवार के रूप में महात्मा गांधी के पोते गोपालकृष्ण गांधी का नाम तय कर लिया है. मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में 18 विपक्षी दलों की बैठक में ये फैसला हुआ है. अब बुधवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस मुद्दे पर फोन पर बात की. राहुल गांधी ने गोपालकृष्ण गांधी के लिए जेडीयू के समर्थन की मांग की. राहुल गांधी के अलावा गोपालकृष्ण गांधी ने भी नीतीश कुमार से फोन पर बात की. सूत्रों की मानें, तो नीतीश कुमार ने राहुल गांधी को भरोसा दिया है कि वह गोपालकृष्ण गांधी का समर्थन करेंगे.

राहुल से बात करने के बाद नीतीश ने दिया गोपालकृष्ण को समर्थन का भरोसा

आपको बता दें कि नीतीश कुमार राष्ट्रपति उम्मीदवारी के लिए गोपालकृष्ण गांधी के समर्थन में थे, लेकिन विपक्ष ने मीरा कुमार पर फैसला लिया. नीतीश ने भी रामनाथ कोविंद का समर्थन किया. यही कारण है कि राहुल गांधी नीतीश से बात कर गोपाल गांधी के लिए समर्थन मांग रहे हैं.

उम्मीदवार के चयन के लिए ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में मंगलवार को 18 विपक्षी दलों के साथ संसद भवन में बैठक हुई थी. बैठक में देश के तमाम बड़े नेता मौजूद थे. इस महत्वपूर्ण बैठक में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, ए के एंटनी , डेरेक ओ ब्रायन (टीएमसी), जयप्रकाश नारायण यादव (आरजेडी), नरेश अग्रवाल (एसपी), प्रफुल्ल पटेल (एनसीपी), तारिक अनवर (एनसीपी), एलांगवन (डीएमके), शरद यादव, उमर अब्दुल्ला, हेमंत सोरेन और अजित सिंह जैसे नाम शामिल थे.

इस बैठक की अध्यक्षता कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने की और जेडीयू समेत सभी पार्टियों ने गोपालकृष्ण गांधी के नाम पर सहमति जताई. दरअसल इस बैठक से पहले ही विपक्ष के कई पार्टियों से गोपाल कृष्ण गांधी को लेकर बात की गई थी और बैठक में किसी और नाम पर चर्चा तक नहीं हुई.

You May Also Like

English News