रिपोर्ट का दावा: भारत से 4 हजार किलोमीटर दूर आएगी ‘प्रलय’, जल में समा जाएगा पूरा शहर!

बैंकाक: जलवायु परिवर्तन पर बातचीत की मेजबानी के लिए तैयार बैंकाक खुद को पर्यावरण संकट से बचाने के लिए जूझ रहा है. गौरतलब है कि मौसम से जुड़ी एक गंभीर चेतावनी में कहा गया है कि यह शहर महज एक दशक में आंशिक रूप से पानी में डूब जाएगा. थाईलैंड की राजधानी में संयुक्त राष्ट्र के अगले जलवायु सम्मेलन की तैयारी के लिए मंगलवार से बैठकों का दौर शुरू हो रहा है. तापमान बढ़ने, मौसम के असामान्य पैटर्न के समय के साथ और बदतर होने की आशंका जतायी गयी है. इससे सरकारों पर 2015 की पेरिस जलवायु संधि को अमली जामा पहनाने का दबाव और बढ़ गया है.रिपोर्ट का दावा: भारत से 4 हजार किलोमीटर दूर आएगी 'प्रलय', जल में समा जाएगा पूरा शहर!

एक समय में दलदली जमीन पर बसा बैंकाक समुद्र स्तर से महज डेढ़ मीटर यानी पांच फुट की ऊंचाई पर स्थित है और इसी वजह से समुद्र का जल स्तर बढ़ने से इस शहर को सबसे अधिक खतरा बताया जा रहा है. इसके अलावा जकार्ता और मनीला जैसे दक्षिण एशियाई शहरों पर भी खतरे के बादल मंडरा रहे हैं.

ग्रीनपीस के तारा बुआकामसरी ने कहा, “विश्व बैंक की रपट के मुताबिक भारी बारिश, मौसम के पैटर्न में बदलाव के कारण 2030 तक बैंकाक का लगभग 40 प्रतिशत हिस्सा जलमग्न हो जाएगा. वर्तमान में राजधानी हर वर्ष एक से दो सेंटीमीटर डूब रहा है और निकट भविष्य में भीषण बाढ़ का खतरा है.” थाईलैंड की खाड़ी के निकट के समुद्र चार मिलीमीटर प्रतिवर्ष की दर से ऊपर उठ रहे हैं.

मालूम हो कि बैंकॉक खूबसूरत बीचेस से घिरा हुआ शहर है. कोह समिट (Koh Samet), को चांग (Koh Chang), कोह मट (Koh Mat) सहित कई शानदार बीच यहां के काफी फेमस हैं. बैंकाक की रातों की खूबसूरती के भी दुनियाभर में चर्चे होते हैं. यहां की Khao San Road पर एक से बढ़कर एक नाइट क्‍लब, बार, और रेस्‍टोरेंट्स मौजूद हैं. यहां के भव्‍य रूफटॉप स्‍काई बार में आप मजे से अपने ड्रिंक का मजा ले सकते हैं. यहां की रौनक देखकर पार्टी लवर्स का यहां से वापस जाने का मन ही नहीं होगा. बैंकॉक की नाइट लाइफ इंज्‍वाय करने के बाद आप उसे कभी भूल नहीं पाएंगे.

You May Also Like

English News