रुपये का गिरना चिंता की बात नहीं, हमारी ग्रोथ बढ़ी हुई: शिव प्रताप शुक्ला

डॉलर के मुकाबले रुपये की गिरती कीमत पर वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि चिंता की कोई बात नहीं है. हमारी जो ग्रोथ है वो बढ़ी हुई है. अंतरराष्ट्रीय बाजारों के आधार पर रुपये का गिरना और ऊपर उठना डॉलर के हिसाब से होता है. क्योंकि सारे काम डॉलर में होते हैं.डॉलर के मुकाबले रुपये की गिरती कीमत पर वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि चिंता की कोई बात नहीं है. हमारी जो ग्रोथ है वो बढ़ी हुई है. अंतरराष्ट्रीय बाजारों के आधार पर रुपये का गिरना और ऊपर उठना डॉलर के हिसाब से होता है. क्योंकि सारे काम डॉलर में होते हैं.  महंगाई बढ़ने  के सवाल पर शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि महंगाई तो वैसे भी नहीं बढ़ रही है. खानपान की जो चीज है वह सब सस्ती हो गई हैं. पहले की अपेक्षा बहुत सस्ते हो चुके हैं. उसमें कोई समस्या नहीं है. महंगाई को जितना नियंत्रित किया जाए  उतना करेंगे.  यूपीए सरकार के दौरान सवाल उठाने की बात पर शिव प्रताप शुक्ला का कहना, 'हम अंतरराष्ट्रीय बाजार को भी साधने का काम कर रहे हैं. वह निश्चित तौर से ठीक रहेगा.'  नोटबंदी पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की रिपोर्ट पर सरकार के निर्णय पर विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे सवालों पर वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि नोटबंदी से फायदा ये है जो पैसे लोगों की तिजोरी में बंद थे, वो बैंकों में आए. बैंकों के आधार पर वो राष्ट्र की अर्थव्यवस्था के साथ जुड़े हैं.  उन्होंने कहा, 'उस समय बाहर से पैसे आ रहे थे, नकली नोट भी आ रहे थे. वो सब देखते हुए भारत सरकार ने निर्णय लिया था. हमने कभी भी इससे इनकार नहीं किया कि पैसे नहीं आ रहे हैं. प्रधानमंत्री ने यह नहीं कहा था कि कालेधन के नाते कर रहे हैं. उन्होंने साफ-साफ कहा था कि ये देश की अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए किया है.

महंगाई बढ़ने  के सवाल पर शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि महंगाई तो वैसे भी नहीं बढ़ रही है. खानपान की जो चीज है वह सब सस्ती हो गई हैं. पहले की अपेक्षा बहुत सस्ते हो चुके हैं. उसमें कोई समस्या नहीं है. महंगाई को जितना नियंत्रित किया जाए  उतना करेंगे.

यूपीए सरकार के दौरान सवाल उठाने की बात पर शिव प्रताप शुक्ला का कहना, ‘हम अंतरराष्ट्रीय बाजार को भी साधने का काम कर रहे हैं. वह निश्चित तौर से ठीक रहेगा.’

नोटबंदी पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की रिपोर्ट पर सरकार के निर्णय पर विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे सवालों पर वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला का कहना है कि नोटबंदी से फायदा ये है जो पैसे लोगों की तिजोरी में बंद थे, वो बैंकों में आए. बैंकों के आधार पर वो राष्ट्र की अर्थव्यवस्था के साथ जुड़े हैं.

उन्होंने कहा, ‘उस समय बाहर से पैसे आ रहे थे, नकली नोट भी आ रहे थे. वो सब देखते हुए भारत सरकार ने निर्णय लिया था. हमने कभी भी इससे इनकार नहीं किया कि पैसे नहीं आ रहे हैं. प्रधानमंत्री ने यह नहीं कहा था कि कालेधन के नाते कर रहे हैं. उन्होंने साफ-साफ कहा था कि ये देश की अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए किया है.

You May Also Like

English News