रूस के दुश्मनों में अमेरिका अव्वल- पोल

भारत रूस के परम मित्र दोस्तों की सूची में बना हुआ है. मॉस्को के एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक ने एक ओपिनियन पोल के जरिये ये बात कही है. इसमें यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान अभी रूस के करीब भी नहीं है.भारत रूस के परम मित्र दोस्तों की सूची में बना हुआ है. मॉस्को के एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक ने एक ओपिनियन पोल के जरिये ये बात कही है. इसमें यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान अभी रूस के करीब भी नहीं है.   रूस की एकमात्र गैर-सरकारी चुनावकर्ता संस्था 'लवादा सेंटर' के ताजा ओपिनियन पोल में रूसी नागरिक बेलारूस को अपने देश का सबसे करीबी सहयोगी मानते हैं. इसके बाद चीन, कजाखिस्तान, सीरिया और भारत का नंबर आता है. अन्य खुलासे - चीन अब रूस का ज्यादा करीबी सहयोगी है रूस के चोटी के दुश्मनों की बात करें तो पोल में अमेरिका का नाम सबसे ऊपर है   इसमें भी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का नाम सबसे आगे है   यूक्रेन, लातविया, लुथानिया और जर्मनी का नंबर बाद में आता है.  अफगानिस्तान का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है.  वही रूसी प्रशासन अब तालिबान के साथ अच्छा व्यवहार कर रहा है   सामान्य रूसी नागरिक इस्लामी अतिवाद और एक महत्वपूर्ण डर/शत्रु के रूप में देखता है उनकी नजर में ट्रंप, यूक्रेन, यूरोप, आईएसआईएस और कट्टरपंथी इस्लाम व भ्रष्टाचार रूस के सबसे बड़े शत्रु हैं.  

रूस की एकमात्र गैर-सरकारी चुनावकर्ता संस्था ‘लवादा सेंटर’ के ताजा ओपिनियन पोल में रूसी नागरिक बेलारूस को अपने देश का सबसे करीबी सहयोगी मानते हैं. इसके बाद चीन, कजाखिस्तान, सीरिया और भारत का नंबर आता है.
अन्य खुलासे –
चीन अब रूस का ज्यादा करीबी सहयोगी है
रूस के चोटी के दुश्मनों की बात करें तो पोल में अमेरिका का नाम सबसे ऊपर है 
 इसमें भी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का नाम सबसे आगे है 
 यूक्रेन, लातविया, लुथानिया और जर्मनी का नंबर बाद में आता है. 
अफगानिस्तान का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है. 
वही रूसी प्रशासन अब तालिबान के साथ अच्छा व्यवहार कर रहा है 
 सामान्य रूसी नागरिक इस्लामी अतिवाद और एक महत्वपूर्ण डर/शत्रु के रूप में देखता है
उनकी नजर में ट्रंप, यूक्रेन, यूरोप, आईएसआईएस और कट्टरपंथी इस्लाम व भ्रष्टाचार रूस के सबसे बड़े शत्रु हैं. 

You May Also Like

English News