रूस रवाना हुए पीएम मोदी, जानें इस दौरे की 10 बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार सुबह रूस के शहर सोचि के लिए रवाना हुए. पीएम मोदी रूस के सोचि शहर में एक इन्फॉर्मल मीटिंग में हिस्सा लेने जा रहे हैं. यह मुलाकात बिना किसी एजेंडे के है, लेकिन इस बैठक में कई बड़े मुद्दों पर बातचीत होने की संभावना है.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार सुबह रूस के शहर सोचि के लिए रवाना हुए. पीएम मोदी रूस के सोचि शहर में एक इन्फॉर्मल मीटिंग में हिस्सा लेने जा रहे हैं. यह मुलाकात बिना किसी एजेंडे के है, लेकिन इस बैठक में कई बड़े मुद्दों पर बातचीत होने की संभावना है.  पीएम मोदी इसके पहले जून 2017 में रूस गए थे. आइए जानते हैं, पुतिन से पीएम मोदी की इस अनौपचारिक मुलाकात के बारे में 10 बड़ी बातें...  1. विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार पीएम मोदी का यह दौरा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आमंत्रण पर हो रहा है.  2. सूत्रों के मुताबिक इस बातचीत के लिए कोई 'एजेंडा' तय नहीं है, लेकिन दोनों नेताओं के बीच चार से छह घंटे तक बातचीत हो सकती है.  3. सूत्रों के मुताबिक दोनों नेता काला सागर (ब्लैक सी) के किनारे या किसी पार्क में चहलकदमी कर सकते हैं और यहां फोटोग्राफर्स को उनके फोटो खींचने का पर्याप्त मौका मिलेगा.  4. सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी और पुतिन के बीच इस अनौपचारिक मुलाकात में भी कई महत्वपूर्ण मसलों पर चर्चा हो सकती है. इनमें ईरान न्यूक्लियर डील से अमेरिका के बाहर होने का आर्थिक असर, आतंकवाद, अफगानिस्तान और सीरिया के हालात, शंघाई सहयोग संगठन से जुड़े मसले और ब्रिक सम्मेलन से जुड़े मसले शामिल हो सकते हैं.  5. इस मुलाकात से पीएम मोदी और पुतिन को क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मसलों पर चर्चा करने का अवसर मिलेगा. दोनों नेताओं को इस साल चार और मौकों पर मुलाकात करने का अवसर मिलेगा-एससीओ समिट, ब्रिक्स समिट, जी-20 समिट, भारत और रूस के बीच सालाना द्व‍िपक्षीय सम्मेलन. लेकिन इन सभी में समय काफी कम दिया गया है, जिसकी वजह से दोनों नेता विस्तार से बातचीत नहीं कर सकते.  6. इस बात की काफी चर्चा है कि दोनों नेताओं के बीच CAATSA (Countering Americas Adversaries through Sanctions Act) के बारे में बातचीत हो सकती है. भारत ने पहले ही यह साफ कर दिया है कि रूस के साथ किस तरह का प्रतिरक्षा संबंध रखना है, यह कोई तीसरा देश तय नहीं कर सकता.  7. समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए रूस में भारत के राजदूत पंकज शरण ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच बातचीत रूसी समय के मुताबिक दोपहर एक बजे (भारतीय समयानुसार दोपहर करीब 3.30 बजे) से शुरू होगी, जिसके बाद पुतिन पीएम मोदी के सम्मान में एक भोज देंगे.  8. इस महीने की शुरुआत में एनएसए अजीत डोभाल और विदेश सचिव विजय गोखले मॉस्को गए थे और उन्होंने रूस के एनएसए तथा विदेश मंत्री से मुलाकात की थी. उन्होंने वहां कई अन्य अधिकारियों से भी मुलाकात की थी.  9. पीएम मोदी का यह दौरा चीन के हाल में उनकी 'अनौपचारिक' यात्रा और पुतिन के चौथी बार राष्ट्रपति पद का कार्यभार ग्रहण करने के बाद हो रहा है.  10. यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है, जब वैश्विक परिदृश्य में काफी हलचल है. सूत्रों के मुताबिक भारत और रूस के बीच भारत-प्रशांत समुद्री सुरक्षा, उत्तर कोरिया, क्षेत्रीय सुरक्षा के मसलों और अमेरिका के साथ ट्रेड वार पर भी बातचीत हो सकती है.

पीएम मोदी इसके पहले जून 2017 में रूस गए थे. आइए जानते हैं, पुतिन से पीएम मोदी की इस अनौपचारिक मुलाकात के बारे में 10 बड़ी बातें…

1. विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार पीएम मोदी का यह दौरा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आमंत्रण पर हो रहा है.

2. सूत्रों के मुताबिक इस बातचीत के लिए कोई ‘एजेंडा’ तय नहीं है, लेकिन दोनों नेताओं के बीच चार से छह घंटे तक बातचीत हो सकती है.

3. सूत्रों के मुताबिक दोनों नेता काला सागर (ब्लैक सी) के किनारे या किसी पार्क में चहलकदमी कर सकते हैं और यहां फोटोग्राफर्स को उनके फोटो खींचने का पर्याप्त मौका मिलेगा.

4. सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी और पुतिन के बीच इस अनौपचारिक मुलाकात में भी कई महत्वपूर्ण मसलों पर चर्चा हो सकती है. इनमें ईरान न्यूक्लियर डील से अमेरिका के बाहर होने का आर्थिक असर, आतंकवाद, अफगानिस्तान और सीरिया के हालात, शंघाई सहयोग संगठन से जुड़े मसले और ब्रिक सम्मेलन से जुड़े मसले शामिल हो सकते हैं.

5. इस मुलाकात से पीएम मोदी और पुतिन को क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मसलों पर चर्चा करने का अवसर मिलेगा. दोनों नेताओं को इस साल चार और मौकों पर मुलाकात करने का अवसर मिलेगा-एससीओ समिट, ब्रिक्स समिट, जी-20 समिट, भारत और रूस के बीच सालाना द्व‍िपक्षीय सम्मेलन. लेकिन इन सभी में समय काफी कम दिया गया है, जिसकी वजह से दोनों नेता विस्तार से बातचीत नहीं कर सकते.

6. इस बात की काफी चर्चा है कि दोनों नेताओं के बीच CAATSA (Countering Americas Adversaries through Sanctions Act) के बारे में बातचीत हो सकती है. भारत ने पहले ही यह साफ कर दिया है कि रूस के साथ किस तरह का प्रतिरक्षा संबंध रखना है, यह कोई तीसरा देश तय नहीं कर सकता.

7. समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए रूस में भारत के राजदूत पंकज शरण ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच बातचीत रूसी समय के मुताबिक दोपहर एक बजे (भारतीय समयानुसार दोपहर करीब 3.30 बजे) से शुरू होगी, जिसके बाद पुतिन पीएम मोदी के सम्मान में एक भोज देंगे.

8. इस महीने की शुरुआत में एनएसए अजीत डोभाल और विदेश सचिव विजय गोखले मॉस्को गए थे और उन्होंने रूस के एनएसए तथा विदेश मंत्री से मुलाकात की थी. उन्होंने वहां कई अन्य अधिकारियों से भी मुलाकात की थी.

9. पीएम मोदी का यह दौरा चीन के हाल में उनकी ‘अनौपचारिक’ यात्रा और पुतिन के चौथी बार राष्ट्रपति पद का कार्यभार ग्रहण करने के बाद हो रहा है.

10. यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है, जब वैश्विक परिदृश्य में काफी हलचल है. सूत्रों के मुताबिक भारत और रूस के बीच भारत-प्रशांत समुद्री सुरक्षा, उत्तर कोरिया, क्षेत्रीय सुरक्षा के मसलों और अमेरिका के साथ ट्रेड वार पर भी बातचीत हो सकती है.

You May Also Like

English News