रेलवे ने 5 घंटे में बना डाले 6 अंडरब्रिज, 300 लोग लगे थे काम में

लेटलतीफी के लिए मशहूर इंडियन रेलवे ने कम समय में 6 अंडरब्रिज बनाकर अनूठा उदाहरण पेश किया है. मानवरहित क्रासिंग पर आए दिन हो रहे हादसों से सबक लेते हुए पूर्व तटीय रेलवे ने ओडिशा में महज 5 घंटे में 6 अंडरब्रिज बनाकर तैयार कर दिया.लेटलतीफी के लिए मशहूर इंडियन रेलवे ने कम समय में 6 अंडरब्रिज बनाकर अनूठा उदाहरण पेश किया है. मानवरहित क्रासिंग पर आए दिन हो रहे हादसों से सबक लेते हुए पूर्व तटीय रेलवे ने ओडिशा में महज 5 घंटे में 6 अंडरब्रिज बनाकर तैयार कर दिया.  संबलपुर के मंडल रेल प्रबंधक डॉ. जयदीप गुप्ता ने बताया कि ओडिशा के संबलपुर में रेलवे ने 6 मध्यम ऊंचाई के अंडरब्रिज का निर्माण कर इस बीच आने वाले सभी मानव रहित क्रासिंग को खत्म कर दिया है. उन्होंने कहा, 'गुरुवार को संबलपुर मंडल में एक साथ 6 अंडरब्रिज का काम शुरू किया गया और महज साढ़े 4 घंटे में सभी उन्हें तैयार कर लिया गया.'  ओडिशा के कालाहांडी इलाके में रेलवे के अनूठे काम की वजह से भवानीपटना-लांजीगढ़ रोड सेक्शन में 7 मानव रहित क्रासिंग पूरी तरह बंद हो जाएंगे. मंडल रेल प्रबंधक गुप्ता ने कहा कि रेलवे का यह कदम इंडियन रेलवे के इतिहास में मील का पत्थर साबित होगा.  उन्होंने कहा कि रेलवे ने 5 घंटे में 6 अंडरब्रिज बनाने का पहली बार किया है. इस काम में मौसम समेत कई प्रकार की अड़चनें थीं, लेकिन हमारे मनोबल और कामगारों की मेहनत ने इस काम को सफलता पूर्वक पूरा किया. उन्होंने बताया कि इस काम में 300 कामगारों ने काम किया.  इस काम में 20 एक्सवेटर्स और 12 क्रेनों की मदद ली गई. बता दें कि पूर्व तटीय रेलवे ने अंडरब्रिज का काम शुरू करने से पहले 7 कंक्रीट के 4.15 मीटर ऊंचे बॉक्स जैसे ढांचों को तैयार करवाया. 6 अंडरब्रिज को तैयार करने में कुल 42 ऐसे बॉक्स का इस्तेमाल किया गया.

संबलपुर के मंडल रेल प्रबंधक डॉ. जयदीप गुप्ता ने बताया कि ओडिशा के संबलपुर में रेलवे ने 6 मध्यम ऊंचाई के अंडरब्रिज का निर्माण कर इस बीच आने वाले सभी मानव रहित क्रासिंग को खत्म कर दिया है. उन्होंने कहा, ‘गुरुवार को संबलपुर मंडल में एक साथ 6 अंडरब्रिज का काम शुरू किया गया और महज साढ़े 4 घंटे में सभी उन्हें तैयार कर लिया गया.’

ओडिशा के कालाहांडी इलाके में रेलवे के अनूठे काम की वजह से भवानीपटना-लांजीगढ़ रोड सेक्शन में 7 मानव रहित क्रासिंग पूरी तरह बंद हो जाएंगे. मंडल रेल प्रबंधक गुप्ता ने कहा कि रेलवे का यह कदम इंडियन रेलवे के इतिहास में मील का पत्थर साबित होगा.

उन्होंने कहा कि रेलवे ने 5 घंटे में 6 अंडरब्रिज बनाने का पहली बार किया है. इस काम में मौसम समेत कई प्रकार की अड़चनें थीं, लेकिन हमारे मनोबल और कामगारों की मेहनत ने इस काम को सफलता पूर्वक पूरा किया. उन्होंने बताया कि इस काम में 300 कामगारों ने काम किया.

इस काम में 20 एक्सवेटर्स और 12 क्रेनों की मदद ली गई. बता दें कि पूर्व तटीय रेलवे ने अंडरब्रिज का काम शुरू करने से पहले 7 कंक्रीट के 4.15 मीटर ऊंचे बॉक्स जैसे ढांचों को तैयार करवाया. 6 अंडरब्रिज को तैयार करने में कुल 42 ऐसे बॉक्स का इस्तेमाल किया गया.

You May Also Like

English News