रोहित शर्मा कंफ्यूज होकर बोले- टी20 क्रिकेट में किसका पलड़ा है भारी, कैसे समझाऊं?

टीम इंडिया मंगलवार से शुरू हो रही निदाहास ट्रॉफी में खिताब की प्रबल दावेदार नजर आ रही है। तीन देशों के बीच होने वाली टी20 इंटरनेशनल सीरीज में टीम इंडिया के अलावा श्रीलंका और बांग्लादेश की टीमें हिस्सा ले रही हैं। टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्माका मानना है कि टी20 प्रारूप में कोई भी टीम कमजोर नहीं हैं और इस फॉर्मेट में कुछ भी हो सकता है।रोहित शर्मा कंफ्यूज होकर बोले- टी20 क्रिकेट में किसका पलड़ा है भारी, कैसे समझाऊं?

श्रीलंका के खिलाफ मंगलवार को होने वाले मैच से पहले रोहित ने कहा, ‘चाहे हम खिताब के प्रबल दावेदार हो या नहीं। इस बारे में मैं कुछ नहीं सोच रहा हूं। टी20 ऐसा प्रारूप है, जहां कोई भी टीम जीत सकती है। खेल एक ओवर में बदल सकता है। अगर आपका दिन नहीं हो तो यह आपके हाथों से फिसल सकता है।’

रोहित ने आगे कहा, ‘मैं इसको कैसे समझाउं? यह बिलकुल वैसा ही है कि इंग्लिश प्रीमियर लीग में कोई टीम मजबूत हो, लेकिन दिन होने पर कोई भी टीम विजेता बन जाती है।’ रोहित शर्मा को विराट कोहली की गैरमौजूदगी में टीम इंडिया की कमान सौंपी गई हैं, जिसमें अन्य प्रमुख खिलाड़ी जैसे एमएस धोनी, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह भी नहीं खेलेंगे।

दूसरे दर्जे की टीम का नेतृत्व करने के सवाल पर रोहित ने कहा, ‘मैं इस तरह नहीं देख रहा हूं कि मेरे पास नियमित खिलाड़ियों वाली टीम नहीं हैं। मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि देश की टीम का नेतृत्व करने का मौका मिला है। आज कल के दिनों के कार्यक्रम और जितना हम खेलते हैं, उसे देखते हुए खिलाड़ियों का ध्यान रखना जरूरी है। उन्हें जब जरुरत हो तो आराम देना चाहिए। मुझे जब कप्तानी करने को कहा गया, तो काफी सम्मानित महसूस हुआ।’

निदाहास ट्रॉफी में टीम इंडिया के प्रदर्शन के बारे में बात करते हुए ‘हिटमैन’ ने कहा, ‘यह हमेशा जरूरी है कि आपको अपनी बेंच स्ट्रेंथ का पता हो। हम भाग्यशाली हैं कि हमारे पास गुणी खिलाड़ी हैं, जो शानदार प्रदर्शन करने के लिए मौके के इंतजार में रहते हैं। इन खिलाड़ियों ने इंडिया ‘ए’, रणजी ट्रॉफी और आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया है। अब यह सीरीज इनके लिए आदर्श प्लेटफॉर्म साबित हो सकती है।’

बकौल रोहित, ‘हम देखना चाहते हैं कि युवा खिलाड़ी इस सीरीज में कैसा प्रदर्शन करते हैं। हम उन्हें आईसीसी टूर्नामेंट्स में हड़बड़ी में खेलने का जोखिम उठाने नहीं देना चाहते। हम उन्हें आश्चर्य में नहीं डालना चाहते। हम देखना चाहते हैं कि वह व्यक्तिगत तौर पर कैसा प्रदर्शन करते हैं।’

You May Also Like

English News