लखनऊ के सबसे प्रतिष्ठिïत मिश्नरी स्कूल लामार्टीनियर के खिलाफ एफआईआर, जानिए वजह?

लखनऊ: जालौन जनपद के रहने वाली एक कारोबारी ने अपने बेटे के साथ मारपीट और रुपये छीनने का आरोप लगाते हुए राजधानी के सबसे प्रतिष्ठिïत मिश्नरी स्कूल लामार्टीनियर के कुछ सीनियर छात्रों व प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी है। यह एफआईआर सोमवार को गौतमपल्ली थाने में दर्ज की गयी है।


जलौना के उरई में कारोबारी व भाजपा नेता सुधीर महेश्वरी अपने परिवार के साथ रहते हैं। मौजूदा समय में उनका बेटा उरई के एक स्कूल में कक्षा-9 का छात्र है। उन्होंने बताया कि कुछ साल पहले उन्होंने अपने बेटे का एडमिशन गौतमपल्ली स्थित प्रतिष्ठिïत लामार्टीनियर स्कूल में कक्षा-6 में कराया था। उनका बेटा जब आठवीं में पहुंचा तो हास्टल में रहने वाले सीनियर छात्रों ने उनके साथ उलटी-सीधी हरकतें शुरू कर दी।

उन्होंने बताया कि उनके बेटे के साथ स्कूल में मारपीट की जाती थी और उसके रुपये भी छीन लिये जाते थे। बेटे ने कुछ दिनों तक सब कुछ सहन किया। वह हमेशा परिवार वालों से हास्टल में न रहने की बात कहता था, पर परिवार के लोग उसकी बात पर ध्यान नहीं दे पाते थे। अचानक एक दिन ने उसने इस बात की जिद कर ली कि वह अब स्कूल के हास्टल में नहीं रहेगा।

बेटे की यह बात सुन परिवार के लोगों ने जब उससे बातचीत की तो छात्र ने अपने साथ होने वाली रैङ्क्षगग की शिकायत परिवार वालों को बतायी। बेटे की बात सुन सुधीर महेश्वरी के पैरों तले जमीन खिसक गयी। इतने प्रतिष्ठिïत स्कूल में बेटे के साथ इस तरह की घटना सुन वह यकीन नहीं कर सके।

उन्होंने बताया कि वह इसके बाद शिकायत लेकर स्कूल पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले हास्टल के वार्डन से की। जब वहां से कुछ हाल नहीं हुआ तो उन्होंने शिकायत स्कूल के अन्य अधिकारियों से की। कई बार शिकायत के बाद सुधीर महेश्वरी की शिकायत को स्कूल प्रशासन ने अनसुना कर दिया।

अंत में सुधीर ने अपने बेटे को स्कूल में न पढ़ाने का फैसला किया। आठवीं की पढ़ाई पूरी होते ही सुधीर महेश्वरी ने अपने बेटे का नाम स्कूल से कटवा लिया और उसका दाखिला उरई में करा दिया। इसके बाद उन्होंने स्कूल में छात्रों के साथ हो रही इस तरह की घटना दोबारा न हो इसके लिए उन्होंने स्कूल के खिलाफ मानव संसाधन मंत्रालय से लिखित शिकायत की।

मंत्रालय ने इसके बाद सुधीर महेश्वरी की शिकायत को लखनऊ पुलिस के पास उचित कार्रवाई के लिए भेजा दिया। इंस्पेक्टर गौतमपल्ली ने सोमवार को इस मामले में सुधीर महेश्वरी की शिकायत पर स्कूल प्रशासन के खिलाफ लूट की धारा 394 आईपीसी के तहत रिपोर्ट दर्ज की गयी है।

शिकायत पत्र ने नशे की बात भी कही गयी
शिकायतकर्ता सुधीर ने अपने शिकायती पत्र में इस बात का जिक्र भी किया है कि हास्टल में कुछ छात्र स्कूल में ही नशे का सामान असानी से मिल जाता है। वह लोग नशे का सेवा करके सीधे-साधा बच्चों पर अत्याचार करते हैं। यहां तक उनके बेटे से सीनियर अपना होमवर्क भी कराता थे। शिकायत पत्र में यह भी जिक्र है कि वहां ऐसे कृत्य होते हैं, जिसको बयान भी नहीं किया जा सकता है।

वर्ष 2015 में एक छात्र की हुई थी संदिग्ध मौत
शहर के इस प्रतिष्ठिïत स्कूल में पढऩे वाले 9 वीं के छात्र राहुल श्रीधर की 10 अप्रैल वर्ष 2015 में स्कूल की एक बिल्डिंग से गिरने से संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी थी। स्कूल प्रशासन छात्र की मौत को आत्महत्या बता रहा था, जबकि परिवार के लोग हत्या का आरोप लगा रहे थे। इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ गौतमपल्ली थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी, पर अब तक छात्र राहुल की मौत का रहस्य से पुलिस पर्दा नहीं उठा सकी है।

You May Also Like

English News