लखनऊ में अमित शाह का बड़ा फैसला: कहा- यूपी को 5 साल में बीमारू राज्य से करेंगे बाहर

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इन दिनों यूपी दौरे पर हैं. इस दौरान उन्होंने लखनऊ में बुद्धिजीवियों और प्रतिष्ठित नागरिकों की सभा को संबोधित किया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का लक्ष्य विकास की कतार में अंतिम खड़े व्यक्ति को सबसे आगे लाना है. उन्होंने कहा, अंत्योदय के आधार पर हमारी पार्टी आगे बढ़ रही है.लखनऊ में अमित शाह का बड़ा फैसला: कहा- यूपी को 5 साल में बीमारू राज्य से करेंगे बाहरFriendship Day: कोहली-कुंबले से कपिल-केजरीवाल तक, की वो जोड़ियां जो टूट गईं अब..

अमित शाह ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र के 3 वर्षों के कार्यकाल में शुरू की गई योजनाओं का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी ने महज तीन वर्षों के कार्यकाल में गरीब, दमित और महिलाओं के फायदे के लिए 106 योजनाएं लागू की गईं.’ इस दौरान उन्होंने उज्जवला और स्वच्छ भारत मिशन का खास तौर से जिक्र किया. अमित शाह ने कहा, स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत देश में 4.5 करोड़ शौचालय बनाए गए.

अमित शाह ने इसके साथ ही अगले पांच वर्षों में यूपी को बीमारू राज्यों की श्रेणी से बाहर लाने वादा किया. उन्होंने कहा, मैं आप सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में पांच वर्षों में यूपी बीमारू राज्य से बाहर आ जाएगा.’

बीजेपी अध्यक्ष ने यहां पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र पर भी जोर दिया. उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर भी प्रहार करते हुए कहा, चाहे कोई पार्टी उसमें आंतरिक लोकतंत्र बनाए रखना जरूरी है. अगर वह ऐसा नहीं करती, तो वह देश के लोकतंत्र की सेवा नहीं कर सकती है. उन्होंने साथ ही कहा, ‘सोनिया जी के बाद कांग्रेस का रास्ट्रीय अध्यक्ष कौन होगा? सब जानते हैं कि राहुल गांधी बनेगे. लेकिन बीजेपी में मेरे बाद कौन बनेगा? किसी को नही पता.

वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, यूपी में अपराध के बारे में जब मैंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से पूछा तो उन्होंने कहा अपराध के आकड़ों को देख कर घबराइए नहीं. आप 100 प्रतिशत एफएआर दर्ज करवाए, बिना चेहरा देखे अपराधियों पर कार्रवाई कीजिए. एक वक्त के बाद खुद ब खुद क्राइम कंट्रोल होता दिखेगा. सीएम योगी ने कहा, हम सबका विकास करेंगे, लेकिन तुष्टिकरण किसी का नहीं करेंगे. जाति-मजहब के नाम पर तुष्टिकरण नही करंगे, सबका साथ, सबका विकास करेंगे. 

यहां गौर करने वाली बात यह भी रही कि इस कार्यक्रम में अमित शाह समेत सभी मेहमानों का स्वागत बुके या फूल माला से नहीं, बल्कि नई परंपरा के तहत फूल किताब के साथ खादी का रुमाल देकर किया गया.

यूपी दौरे पर गए अमित शाह ने इससे पहले बीजेपी कार्यकर्ता सोनू यादव के घर पर खाना खाया. इस दौरान उनके साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद रहे.

You May Also Like

English News