लूट की लखनऊ में पकड़े गये कोलकता में

लखनऊ : कैण्ट इलाके में बीते 14 जुलाई को सदर इलाके में यूनाइटेड बैंक आफ इण्डिया के बाहर दो महिला कर्मचारियों से 20 लाख की लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों को कोलकता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कैण्ट पुलिस की टीम कोलकता जाकर उनसे पूछताछ कर चुकी है और अब पुलिस दोनों को कस्टडी रिमाण्ड पर लेने की बात कह रही है। लूट की इस वारदात में शामिल दो बदमाश अभी फरार हैं।
एसओ कैण्ट ने बताया कि 14 जुलाई को हुई 20 लाख की लूट के मामले में पश्चिम बंगाल के जलपाइगुड़ी के रहने वाले बदमाशों की भूमिका सामने आयी थी। इसके बाद पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम बदमाशों की धर-पकड़ के लिए पश्चिम बंगाल तक गयी थी। पुलिस के पहुंचने से पहले ही वारदात को अंजाम देने वाले चार बदमाश धर्मवीर, चंदन, मिथुन व जिम्मी फरार हो गये थे। राजधानी पुलिस ने कोलकता पुलिस को इन बदमाशों की धर-पकड़ के लिए कहा था। चंद रोज पहले कोलकता पुलिस ने बदमाश चंदन व धर्मवीर को धर-दबोचा। इसके बाद कोलकता पुलिस ने इसकी जानकारी कैण्ट पुलिस को दी। बदमाशों के पकड़े जाने की सूचना पर कैण्ट पुलिस की एक टीम कोलकता भी गयी और वहां पकड़े गये बदमाशों से पूछताछ भी की। एसओ कैण्ट ने बताया कि अब पकड़े गये बदमाशों को वारंट-बी पर पूछताछ के लिए कस्टडी रिमाण्ड पर लिया जायेगा। इस वारदात में शामिल बदमाश मिथुन व जिम्मी अभी फरार है। पुलिस लगातार उनकी तलाश में जुटी है।
यह थी पूरी वारदात
ेकैण्ट स्थित यूनाइटेड बैंक आफ इण्डिया की में तैनात डिप्टी मैनेजर ऊषा चौधरी व महिला चपरासी निर्मला देवी बीते 14 जुलाई को आलमबाग स्थित कोटक महिन्द्रा बैंक से 20 लाख रुपये लिये और कार से वापस बैंक पहुंची थी। बैंक के बाहर ही एक बाइक सवार दो बदमाश निर्मला को धक्का देकर उनके हाथ से 20 लाख रुपये लूट ले गये थे। इस दौरान बदमाशों ने निर्मला के साथ मारपीट भी की थी।

You May Also Like

English News