हुआ सबसे बड़ा ख़ुलासा: लैपटॉप योजना घोटाले में अखिलेश ने किया सबसे बड़ा घोटाला, 1173 करोड़ रुपए…

लखनऊ. यूपी के तत्‍कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की लैपटॉप योजना भी जांच के घेरे में आ गई है। आरटीआई में खुलासा हुआ है कि छात्र-छात्राओं में बांटे जाने के लिए करीब 15 लाख लैपटॉप मंगाए गए थे, लेकिन 8 लाख 70 हजार लैपटॉप गायब हैं। इनकी कीमत करीब 1173 करोड़ रुपए आंकी गई है।

यह भी पढ़े- अभी अभी: आई सबसे बुरी ख़बर सोनम कपूर के घर में हुई मौत, बॉलीवुड में चारो तरफ छाया मातम… योजना के मुताबिक, एक लैपटॉप की कीमत 13490 रुपए बताई गई है।  जानकारी के अनुसार, लेखक शांतनु गुप्‍ता ने अपनी किताब ‘उत्‍तर प्रदेश: विकास की प्रतीक्षा में’ लैपटॉप योजना का ब्‍यौरा देना चाह रहे थे। ऐसे में उन्‍होंनें आरटीआई डालकर विभाग से जानकारी मांगी। इसी दौरान आरटीआई में खुलासा हुआ कि 8 लाख 70 हजार लैपटॉप का कोई रिकॉर्ड सरकारी फाइलों में नहीं है। इसका मतलब साफ है कि ये लैपटॉप अधिकारियों की मिलीभगत से घोटाले की भेंट चढ़ गए।

 यह भी पढ़े- अभी अभी: CM योगी ताला तोड़ घुसे ऑफिस, पकड़ी अफसर की अय्यासी, देख सबके उड़े होश…

लैपटॉप वितरण का ब्‍यौरा – 38615 लैपटॉप भेजे गए, 16638 बंटे: आगरा – 20293 लैपटॉप भेजे गए, 1224 लैपटॉप बंटे: अलीगढ़  – 69395 लैपटॉप मंगाए गए, 20341 बंटे: इलाहबाद  – 40177 लैपटॉप मंगाए गए, 7218 बंटे: अंबेडकरनगर  – 13165 लैपटॉप पहुंचे, 3820 बंटे: अमेठी  – 15782 लैपटॉप मंगाए गए, सिर्फ 4398 बंटे: बहराइच

You May Also Like

English News