वायुसेना के भरोसे पर ऐसे खरी उतरीं अवनी, ऐसे रचाया इतिहास

लड़ाकू विमान उड़ाने वाली देश की पहली तीन महिला पायलट्स पिछले साल अक्टूबर से तैयारी में जुटीं थीं। अवनी, मोहना और भावना ये तीनों पायलट तीन हफ्ते के कठोर प्रशिक्षण के बाद सेना का जंगी विमान उड़ाने के लिए कड़े परिश्रम कर रही थीं। भावना कंठ, अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह को पिछले साल जुलाई में फ्लाइंग ऑफिसर के तौर पर कमीशन मिला था। वायुसेना के भरोसे पर ऐसे खरी उतरीं अवनी, ऐसे रचाया इतिहास

युद्ध क्षेत्र को प्रयोग के तौर पर महिलाओं के लिए खोलने के लिए सरकार के फैसले के एक साल से भी कम समय में तीनों को कमीशन दे दिया गया था। वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा था कि आपको जानकर खुशी होगी कि उड़ान के लिए कठिन अभ्यास के बावजूद इन तीनों का प्रदर्शन अन्य पायलटों के प्रदर्शन की तरह ही उत्कृष्ट रहा।  

हॉक एडवांस जेट ट्रेनर पर उड़ान भरने से लेकर बाइसन तक अवनी का यह सफर काफी कड़ा रहा है। इससे पहले वायुसेना प्रमुख ने बताया था कि यह तीनों फाइटर पायलट पिछले साल अक्टूबर में स्टेज-2 का प्रशिक्षण ले रही थी। सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा होने पर इन्हें फाइटर पायलट के तौर पर कमीशन मिलेगा। जिसके बाद आज अवनी की सफलता हर कोई देख पा रहा है। 

You May Also Like

English News