वाराणसी हादसाः शोरूम से लेकर निकले नई कार, नहीं पहुंच पाए घर

वाराणसी हादसे में कई परिवारों की खुशियां तबाह हो गई। एक परिवार तो ऐसा था जिसमें घर में नई कार आने की खुशियां मनाई जा रही थीं। सभी रास्ता देख रहे थे कि पिता कार लेकर जल्द घर आएं लेकिन उसकी बजाय उनकी मौत की खबर आ गई।वाराणसी हादसे में कई परिवारों की खुशियां तबाह हो गई। एक परिवार तो ऐसा था जिसमें घर में नई कार आने की खुशियां मनाई जा रही थीं। सभी रास्ता देख रहे थे कि पिता कार लेकर जल्द घर आएं लेकिन उसकी बजाय उनकी मौत की खबर आ गई।  जानकारी के अनुसार बस्ती जिले के रहने वाले अश्विनी के घर नई कार आने की खुशियां मनाई जा रही थीं। पिता अपने दामाद के साथ नई कार लेने के लिए वाराणसी गए थे। वो जैसे ही शो रूम से कार लेकर घर के लिए निकले कैंट स्टेशन के यहां जाम के कारण रूक गए। तभी ऊपर से पुल का पिलर आकर कार पर गिर गया।  अश्विनी के पिता कार में आगे बैठे थे जिसके चलते उनकी मौके पर ही मौत हो गई वहीं उनके दामाद का पैर टूट गया। पिता का इंतजार कर रहे अश्विनी को जब से हादसे की सूचना मिली है उसका रो-रोकर बुरा हाल है। घर की खुशियां मातम में बदल गई हैं।  वाराणसी हादसाः पति-बेटे संग जा रही थी स्टेशन, रास्ते में उजड़ गई दुनिया  हालांकि, सरकार ने चार अधिकारियों को निलंबित कर जांच कमेटी बनाई है साथ ही मृतकों के परिजनों को 5 लाख का मुआवजा भी दिया है लेकिन यह सभ उनकी खुशियां वापस नहीं ला सकते।

जानकारी के अनुसार बस्ती जिले के रहने वाले अश्विनी के घर नई कार आने की खुशियां मनाई जा रही थीं। पिता अपने दामाद के साथ नई कार लेने के लिए वाराणसी गए थे। वो जैसे ही शो रूम से कार लेकर घर के लिए निकले कैंट स्टेशन के यहां जाम के कारण रूक गए। तभी ऊपर से पुल का पिलर आकर कार पर गिर गया।

अश्विनी के पिता कार में आगे बैठे थे जिसके चलते उनकी मौके पर ही मौत हो गई वहीं उनके दामाद का पैर टूट गया। पिता का इंतजार कर रहे अश्विनी को जब से हादसे की सूचना मिली है उसका रो-रोकर बुरा हाल है। घर की खुशियां मातम में बदल गई हैं।

परिजनों को 5 लाख का मुआवजा भी दिया है लेकिन यह सभ उनकी खुशियां वापस नहीं ला सकते।

You May Also Like

English News