वाराणसी हादसा: अब पोस्टमार्टम के लिए परिजनों से रुपए मांगे, वीडियों वायरल

सरकार की लापरवाही ने वाराणसी में एक साथ 18 लोगों की जिंदगियां ले ली इस हादसे से वाराणसी शहर सदमे में है. मौत के बाद पूरे इलाके में हाहाकार चीख पुकार और चीत्कारे गूंज रही है मगर इस दिल दहला देने वाली घटना के बीच इंसानियत को शर्मसार करने वाला एक वीडियो वाराणसी से सामने आया है, जिसमें पोस्टमार्टम हाउस में शव के बदले परिजनों से रुपए मांगे जाने का दृश्य साफ दिख रहा है. सरकार की लापरवाही ने वाराणसी में एक साथ 18 लोगों की जिंदगियां ले ली इस हादसे से वाराणसी शहर सदमे में है. मौत के बाद पूरे इलाके में हाहाकार चीख पुकार और चीत्कारे गूंज रही है मगर इस दिल दहला देने वाली घटना के बीच इंसानियत को शर्मसार करने वाला एक वीडियो वाराणसी से सामने आया है, जिसमें पोस्टमार्टम हाउस में शव के बदले परिजनों से रुपए मांगे जाने का दृश्य साफ दिख रहा है.   सिगरा थाने की रोडवेज चौकी के इंचार्ज की तहरीर पर यूपी सेतु निगम के अधिकारियों, पर्यवेक्षण कर रहे अधिकारियों, ठेकेदारों के खिलाफ दफा 304 और 308 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं वीडियो के मामले में जिलाधिकारी का कहना है कि इसकी जांच की जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त करवाई होगी.   गौरतलब है कि चौकाघाट लहरतारा फ्लाईओवर के पास मंगलवार को हुए दुर्घटना में मृत 15 लोगों में से 13 लोगों के शवों को उनके परिजनों को सौंप दिया गया है. 2 शव एनडीआरएफ के जवानों के है. जिसके चलते उनके यूनिट के लोग इन शवों को प्राप्त करेंगे. कमिश्नर दीपक अग्रवाल और जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ सुबह से ही मोर्चरी पर मौजूद रहे. उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराए गए वाहनों से सभी 13 शवों को परिजनों के साथ रवाना किया. सरकार ने मरने वालो को पांच पांच लाख रूपये का मुआवज़ा देने का एलान किया है वही लापरवाही के लिएजममेदार चार अधिकारियो को तुरंत बर्खास्त कर दिया गया है.

सिगरा थाने की रोडवेज चौकी के इंचार्ज की तहरीर पर यूपी सेतु निगम के अधिकारियों, पर्यवेक्षण कर रहे अधिकारियों, ठेकेदारों के खिलाफ दफा 304 और 308 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं वीडियो के मामले में जिलाधिकारी का कहना है कि इसकी जांच की जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त करवाई होगी.

गौरतलब है कि चौकाघाट लहरतारा फ्लाईओवर के पास मंगलवार को हुए दुर्घटना में मृत 15 लोगों में से 13 लोगों के शवों को उनके परिजनों को सौंप दिया गया है. 2 शव एनडीआरएफ के जवानों के है. जिसके चलते उनके यूनिट के लोग इन शवों को प्राप्त करेंगे. कमिश्नर दीपक अग्रवाल और जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ सुबह से ही मोर्चरी पर मौजूद रहे. उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराए गए वाहनों से सभी 13 शवों को परिजनों के साथ रवाना किया. सरकार ने मरने वालो को पांच पांच लाख रूपये का मुआवज़ा देने का एलान किया है वही लापरवाही के लिएजममेदार चार अधिकारियो को तुरंत बर्खास्त कर दिया गया है.

You May Also Like

English News