विवादित पोस्टर से परेशान होकर AAP ने लगाया पहरेदार

अरविंद केजरीवाल कैंप और कुमार विश्वास कैंप के बीच चल रहे शीत युद्ध के बीच आम आदमी पार्टी की चिंता अंदरूनी से ज्यादा बाहरी विरोधियों ने बढ़ा दी है. इन दिनों अंदरूनी घमासान से जूझ रही आम आदमी पार्टी अब सीसीटीवी के जरिए ‘षडयंत्रकारियों’ को पकड़ेगी. इसके लिए बाकायदा राउस एवेन्यू पार्टी दफ़्तर की दीवार पर निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरा लगवाया है.

विवादित पोस्टर से परेशान होकर AAP ने लगाया पहरेदार

सीसीटीवी कैमरा पेड़ पर उस जगह लगाया गया है, जिसकी क़ैद में वह पूरी दीवार आ रही है जहां पिछले दिनों कुमार विश्वास के खिलाफ विवादित पोस्टर चिपका दिए गए थे. इस पोस्टर में विश्वास को गद्दार बताया गया था. पोस्टर में कुमार विश्वास का काला सच खुलकर बताने के लिए दिलीप पांडेय का आभार जताते हुए उनकी बड़ी तस्वीर भी छापी गई थी. पोस्टर पर विवाद बढ़ने पर दिलीप पांडेय ने आरोप लगाया था कि कुछ षडयंत्रकारी ‘आप’ के बड़े नेताओं के बीच मतभेद पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.

आम आदमी पार्टी के मुताबिक पोस्टर लगाने वालों की तस्वीर गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे में साफ नहीं आई है. पार्टी ने इसकी शिकायत दिल्ली पुलिस उपायुक्त को भी चिट्ठी लिखकर की थी. पत्र में लिखा गया कि किसी ने पार्टी में दरार डालने के लिए गलत नीयत से दिलीप पांडेय के नाम का इस्तेमाल किया और कुमार विश्वास के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल हुआ. पार्टी दफ़्तर के बाहर विवादित पोस्टर से परेशान होकर फिलहाल ‘आप’ नेताओं ने सीसीटीवी को पहरेदार बनाया है.

106 साल की अम्मा के धाकड़ वीडियो देखकर आपको भी होगा एहसास…

आपको बता दें कि इससे पहले भी एक पोस्टर कुमार विश्वास को चिढ़ाने के लिए लगाया गया था. इसमें पार्टी से निलंबित विधायक अमानतुल्ला खान को ‘हीरा’ बताया गया था. पोस्टर में लिखा था कि जौहरी ही करता है हीरे की पहचान. दिल्ली के सभी विधायकों में अमानतुल्ला खान को सबसे ज्यादा कमेटियों का मेंबर और चेयरमैन बनाने के लिए अरविंद केजरीवाल का शुक्रिया. इस पर जब कुमार विश्वास से सवाल किया गया तो उन्होंने तंज कसते हुए कहा था कि जौहरी ही इस बारे में बता सकता है.

फिलहाल पार्टी दफ़्तर के चारों तरफ सीसीटीवी कैमरों से नज़र रखी जा रही है. इससे पहले पार्टी के कुछ नेता इस बात से भी चिंतित थे कि ‘षड्यंत्रकारी’ द्वारा कुमार विश्वास के खिलाफ पोस्टर लगाकर किसान सम्मेलन के कार्यक्रम को डैमेज करने की कोशिश की गई. ऐसे में आने वाले दिनों में राजनीतिक नुकसान से बचने के लिए सीसीटीवी कैमरों का सहारा लिया जा रहा है.

You May Also Like

English News