विवादित बयान पर चुप्पी साध गए विधायक संजय गुप्ता

भाजपा विधायक संजय गुप्ता ने शनिवार को दिए विवादित बयान पर चुप्पी साध ली। अब विधायक इस मामले में सफाई देते नजर आए। उन्होंने कहा कि ‘ऐसा कुछ नहीं, बस यूं ही छोटी सी बात है।’ इसके बाद उन्होंने अपने दोनों फोन बंद कर लिए और मीडिया से दूरी बनाते हुए लक्सर स्थित आवास भी छोड़ दिया। 

शनिवार को विधायक ने मुख्यमंत्री पर निधाना साधते हुए कहा था कि भाजपा कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है, जबकि झोटा बिरयानी वालों के लिए सीएम के पास समय है। 

लक्सर से भाजपा विधायक संजय गुप्ता ने शनिवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के पूर्व विधायक मोहम्मद शहजाद के बेटे की शादी में शामिल होने और गुरुकुल कांगड़ी में छह जुलाई को आर्य समाज के तीन दिनी अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में न आने पर नाराजगी जताई थी। 

उन्होंने आरोप लगाया था कि भाजपा कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है। इस बयान को लेकर तरह-तरह के चर्चाएं थी। इसे सरकार से भाजपा विधायकों की नाराजगी से जोड़कर देखा जा रहा था। 

विधायक संजय गुप्ता ने एक कार्यक्रम में होने का हवाला देते हुए इस मामले में ज्यादा बात करने से इन्कार कर दिया। विधायक सुबह से ही घर में नहीं हैं। कहां गए हैं, घर में भी इसकी किसी को जानकारी नहीं है। 

न ऐसा बयान दिया, न जताई नाराजगी 

भाजपा विधायक स्वामी यतीश्वरानंद ने कहा कि उन्होंने सरकार से नाराजगी वाला न कोई बयान दिया और न ही आपत्तिजनक बात कही। उन्होंने हरिद्वार जिले में कांवडिय़ों के आने-जाने के रास्तों पर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए सरकार और प्रशासन का ध्यान खींचा था। स्थानीय विधायक होने के नाते यह उनका कत्र्तव्य है, इसमें कोई आपत्तिजनक बात नहीं। 

लक्सर विधायक के बयान पर उन्होंने कहा कि वह एक कार्यक्रम के सिलसिले में शहर से बाहर हैं, उन्हें बयान के बारे में कुछ नहीं पता, इसलिए टिप्पणी करना उचित नहीं है। 

मामला संज्ञान में है, यह संजय गुप्ता की निजी राय

लक्सर विधायक संजय गुप्ता के बयान पर भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. जयपाल सिंह ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में है। प्रदेश नेतृत्व को इसकी जानकारी दी गई है। वहां से निर्देश मिलने के बाद ही कार्रवाई होगी। वैसे यह संजय गुप्ता की निजी राय है, लेकिन इसे व्यक्त करने का तरीका गलत है। निजी तौर पर सामाजिक संबंधों के तहत कोई कहीं भी आ जा सकता है। इसमें आपत्तिजनक कुछ भी नहीं है। 

उन्होंने कहा कि उनकी जानकारी के हिसाब से मुख्यमंत्री का आर्य समाज के समारोह में आने का निश्चित कार्यक्रम था, लेकिन ऐन वक्त पर उनका स्वास्थ्य खराब हो गया, जिस वजह से वह नहीं आ पाए।

You May Also Like

English News