कांटेदार त्रिकोण, ‘आप’ बादल और कांग्रेस में किंग होगा कौन?

पंजाब विधानसभा चुनाव में इस बार कांटेदार मुकाबला होगा। बस देखना ये है कि ‘आप’, बादल और कांग्रेस में से किंग कौन बनेगा? चार फरवरी को मतदान की घोषणा के साथ ही प्रमुख राजनीतिक दलों के लिए अब अगला एक महीना ‘करो या मरो’ की स्थिति का है। यह विधानसभा चुनाव कई मायनों में बीते चुनाव से अलग हैं।
कांटेदार त्रिकोण, 'आप' बादल और कांग्रेस में किंग होगा कौन?
 प्रदेश में आमतौर पर भाजपा व शिरोमणि अकाली दल (शिअद) गठबंधन और कांग्रेस के बीच ही चुनावी जंग होती रही है, लेकिन पहली बार आम आदमी पार्टी (आप) ने पंजाब विधानसभा चुनाव में दस्तक दी है। इस तरह जहां आगामी विधानसभा के लिए चुनावी मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है, वहीं तीनों दलों ने चुनाव से करीब एक साल पहले से ही अपने अभियान शुरू कर प्रदेश में चुनावी माहौल बनाए रखा है।

हालांकि, पंजाब में मुख्य मुकाबला उक्त तीन दलों के बीच ही माना जा रहा है, लेकिन बहुजन समाज पार्टी (बसपा), अकाली दल अमृतसर के नेतृत्व में पंथक फ्रंट, पूर्व कांग्रेसी जगमीत बराड़ के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस, आप के निलंबित सांसद डॉ. धर्मवीर गांधी के नेतृत्व में विभिन्न क्षेत्रीय दलों का पंजाब फ्रंट और वामपंथी भी चुनाव मैदान में उतर रहे हैं।

साल 2012 में ऐसे रहे चुनाव के समीकरण

वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में प्रदेश की कुल 117 सीटों में 68 सीटें (शिअद 56+भाजपा 12) जीती थीं, वहीं कांग्रेस 46 सीटों के साथ विपक्ष में रही। निर्दलीय व अन्य के हिस्से में केवल 3 सीटें ही आई थीं, लेकिन इस बार विधानसभा चुनाव में तस्वीर बिल्कुल अलग है।

बीते लोकसभा चुनाव में पंजाब से चार सीटें जीतने वाली आप ने दिल्ली से बाद पहली बार किसी राज्य के विधानसभा चुनाव में कदम रखा है और अब तक 117 में से 103 सीटों पर अपने प्रत्याशी भी घोषित कर दिए हैं।

उम्मीदवारों की 8वीं सूची जारी, सिर्फ दो प्रत्याशियों के नाम

पार्टी ने शिअद प्रत्याशी व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की पारंपरिक सीट लंबी के अलावा डिप्टी सीएम सुखबीर बादल की संभावित सीट जलालाबाद से अपने प्रत्याशी तय करने के साथ ही कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ भी प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं।

ऐसे में इन प्रमुख नेताओं की सीटों के परिणाम को लेकर चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है। दूसरी ओर, सत्ताधारी गठबंधन के तहत शिअद ने तो अपने हिस्से की 94 सीटों में से अब तक 76 सीटों पर अपने प्रत्याशियों का एलान कर दिया है, लेकिन भाजपा अभी तक अपने हिस्से की 23 सीटों के लिए प्रत्याशी तय नहीं कर सकी है।

अकाली दल का चुनाव प्रचार जोरों पर है

ऐसे में जहां शिअद का चुनाव प्रचार अभियान पूरे जोरों पर है, वहीं भाजपा की ओर से प्रदेश प्रधान के नेतृत्व में विभिन्न रैलियों का आयोजन कर अभी चुनाव में अपनी उपस्थिति ही दिखाई जा रही है। कांग्रेस की ओर से भी कैप्टन अमरिंदर सिंह समेत सभी प्रमुख कांग्रेस नेताओं की सीटों का एलान करते हुए अब तक 61 से अधिक उम्मीदवारों का एलान किया जा चुका है।

यहां खास बात यह भी है कि शिअद और कांग्रेस की ओर से अपने प्रत्याशियों का एलान करते ही दोनों दलों में बगावत भी शुरू हो गई। इसमें सबसे ज्यादा खराब स्थिति कांग्रेस की है। बीते दो महीनों के दौरान शिअद और कांग्रेस के बागियों का एक-दूसरे दल में शामिल होने का सिलसिला जारी रहा है। फिर भी, शिअद के खेमे में इस बात को लेकर थोड़ी राहत है कि चुनाव में तीसरे दावेदार के आने से वोट बंट सकते हैं, जिसका सीधा सत्तारूढ़ गठबंधन को होगा।अन्य दलों में बसपा, पंथक फ्रंट और पंजाब फ्रंट ने भी कुछ सीटों पर अपने प्रत्याशियों की पहली सूचियां जारी कर दी हैं। बुधवार को चुनाव आचार संहिता लागू होने के साथ ही अब राजनीतिक दलों के पास एक महीने का समय है। उम्मीद है कि सभी दल सबसे पहले अपने बाकी प्रत्याशियों के नामों का एलान करेंगे ताकि उन्हें चुनाव प्रचार के लिए कम के कम तीन हफ्ते का समय मिल सके।

 

You May Also Like

English News