विस चुनाव के लिए पार्टियों के घोषणा पत्रों से युवा काफी नाराज, जानिए क्या बोले?

विधानसभा चुनाव के लिए पार्टियों द्वारा जारी किए गए घोषणा पत्रों से युवा और स्टूडेंट्स काफी नाराज हैं। उन्होंने पाटियों के दावों को सिरे से खारिज किया है। रिमट यूनिवर्सिटी मंडी गोबिंदगढ़ और फतेहगढ़ साहिब के माता गुजरी कॉलेज में छात्राओं का रुझान दावे और वादे करने वाली राजनीतिक पार्टियों से उलट है। विद्यार्थियों का कहना है कि कोई भी राजनीतिक पार्टी युवाओं के बारे में नहीं सोचती।
विस चुनाव के लिए पार्टियों के घोषणा पत्रों से युवा काफी नाराज, जानिए क्या बोले?

सभी वोटरों को लुभा रहे हैं, लेकिन ठोस नीति पर कोई भी सरकार काम नहीं करतीं। एमजीसी जर्नलिज्म की छात्रा नवदीप कौर, सुपिंदर कौर, पूजा और परविंदर कौर ने कहा कि किसी भी सरकार के पास नौजवानों के लिए ठोस पॉलिसी नहीं है। ऐसे में नौजवान गलत रास्तों पर जा रहे हैं। रोजगार मिलेगा तभी घर का गुजारा अच्छे से चलेगा। आरक्षण खत्म होना चाहिए। सभी को बराबर का हक देना चाहिए। जनरल भी नौकरी के लिए ज्यादा फीस भरते हैं, लेकिन नौकरी एससी को मिलती है जनरल के पास क्या ज्यादा पैसे हैं नौकरी अप्लाई करने के लिए।

अकाली दल का घोषणा पत्रः घी-चीनी के साथ गरीब किसानों को कर्ज माफी का वादा

वहीं संजय कुमार, आशिव मोहम्मद और अर्शदीप मेहरा ने कहा कि हमें आटा दाल और चीनी चाय पत्ती नहीं चाहिए। हमारी पढ़ाई पूरी होने वाली है। इसके बाद रोजगार कहां से मिलेगा? माता-पिता पढ़ा सकते हैं, लेकिन बच्चों की किस्मत तो नहीं बना सकते। सरकारों की जिम्मेदारी होती है नौजवानों का भविष्य संवारना। हम वोट उसी उम्मीदवार को देंगे जो बेरोजगारी खत्म करेंगे।

बीबी जागीर कौर को हाईकोर्ट से झटका, नहीं लड़ पाएंगी चुनाव

रोजगार है तो सब कुछ है। पिछले दस सालों में उनके परिवार ने सभी पार्टियों को वोट देकर देख लिए लेकिन किसी ने भी सिवाए झूठे आश्वासन के कुछ नहीं दिया हमें रोजगार चाहिए। नौजवानों का भविष्य धुंधला है सभी विदेश की ओर जा रहे हैं जिसके पास विदेश जाने के लिए पैसा नहीं है, वे इसी धीमे सिस्टम में पिस रहे हैं।

You May Also Like

English News