व्यापमं घोटाला: शिवराज ने कहा- हम क्लीन थे, तो चिट मिलनी ही थी

व्यापमं मामले में राहत मिलने के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘हम क्लीन थे, तो चिट तो मिलनी ही थी.’ सीबीआई ने  अपनी जांच में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के उन आरोपों को खारिज कर दिया, जिसमें दिग्विजय ने आरोप लगाया था कि शिवराज सिंह चौहान को बचाने के लिए हार्ड डिस्क से छेड़छाड़ किया गया है.व्यापमं घोटाला: शिवराज ने कहा-  हम क्लीन थे, तो चिट मिलनी ही थीPrice Hike: कहीं 80 के पार न हो जाये पेट्रोल के दाम, जानिए इसके पीछे की वजह!

सीबीआई की स्थिति रिपोर्ट से चिंतामुक्त होने के सवाल पर चौहान ने मीडिया से कहा, ‘मैं क्लीन था तो चिट तो मिलनी ही थी. सार्वजनिक जीवन में आरोप लगते हैं, मगर आरोप तथ्यों पर आधारित होने चाहिए. ऐसे आरोप दुख पहुंचाते हैं, मुझे बहुत चिंता नहीं थी, राहत में तो मैं पहले से ही था.’

सीबीआई ने विशेष सीबीआई अदालत में अपना आरोपपत्र दाखिल किया. वह आरोप खारिज कर दिया कि कंप्यूटर हार्डडिस्क में छेड़छाड़ की गई है. जिसमें कथित तौर पर सीएम अक्षरों का जिक्र था.

कोई फाइल स्टोर नहीं

विशेष सीबीआई अदालत के समक्ष दाखिल अपने आरोपपत्र में एजेंसी ने कहा कि मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल के एक अधिकारी नितिन महिंद्रा से बरामद हार्ड डिस्क ड्राइव का पुलिस फारेंसिक टेस्ट कराया. इस टेस्ट से स्पष्ट हुआ है कि उनमें कोई ऐसी फाइल नहीं स्टोर थी जिसमें सीएम अक्षर थे.

आरोपों को किया खरिज 

सीबीआई ने बताया कि उसने हार्ड डिस्क के साथ छेड़छाड़ के कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और व्हिसल ब्लोअर प्रशांत पांडेय के आरोप को खारिज कर दिया. हार्ड डिस्क को करोड़ों रुपए के भर्ती घोटाले में अहम सबूत माना जा रहा था.इसमें कहा गया है कि पांडेय ने अपने दावे के समर्थन में दिल्ली उच्च न्यायालय और सीबीआई को दो पेन ड्राइव सौंपे थे. पांडे ने दावा किया था कि इंदौर पुलिस ने 2013 में बरामद हार्ड डिस्क में छेड़छाड की गई थी ताकि, रिकार्ड से सीएम शब्द हटाए जा सकें.

मुख्यमंत्री की छवि को धुमिल करने की कोशिश

इस बीच, सीबीआई की स्टेटस रिपार्ट से उल्लासित मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि यह प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री की छवि को धूमिल करने की कोशिश थी. इसके लिए जिम्मेदार लोगों को भाजपा छोड़ेगी नहीं. उन्होंने अपने बयान में कहा,‘हम दिग्विजय सिंह जैसे और उनके साथियों के विरुद्ध कानूनविदों से राय लेने के बाद मानहानि का मामला दायर करेंगे.’ चौहान ने व्यापमं मामले में बयानबाजी करने के लिये कांग्रेस के सांसद और मशहूर वकील कपिल सिब्बल की भी आलोचना की.

You May Also Like

English News