शंकराचार्य के विवादित बोल, नोटबंदी के फैसले को बताया गलत

केंद्र सरकार का नोटबंदी का फैसला साधु संतों को भी नहीं भा रहा। नोटबंदी के मामले पर द्वारका-शारदा और ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य जगदगुरु स्वरूपानंद सरस्वती ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

shankaracharya-modi-copy

भारत का भरा खजाना दुनिया के टॉप 3 अमीर देशों की लिस्ट में होने जा रहा शामिल

एक कार्यक्रम के सिलसिले में मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर आए शंकराचार्य ने नोटबंदी के फैसले की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के चलते हो रही मौतों का पीएम मोदी को श्राप लगेगा। शंकराचार्य यहीं नहीं रुके, उन्होंने मोदी राज को अंग्रेजों से भी गया गुजरा बता डाला।इसके पहले भी शंकराचार्य कई राजनीतिक मामलों पर अपनी राय देते रहे हैं। शंकराचार्य ने कहा कि मोदी सेवक नहीं बल्कि खलनायक और तानाशाह की भाषा बोल रहे हैं।

वह आजादी के समय से हिसाब लेने की बात कहकर धमकी दे रहे हैं। हिसाब लेने का काम कानून का है, भला मोदी कौन होते हैं यह मांग करने वाले। यह राष्ट्र मोदी के हिसाब से नहीं बल्कि संविधान के हिसाब से चलेगा।’ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्वरूपानंद सरस्वती ने यह भी कहा कि सभी को बेईमान नहीं माना जा सकता। उन्होंने कहा, ‘मोदी का राज अंग्रेजी राज से भी गया बीता है।

यह सरकार जान-माल की रक्षा की जगह उल्टा जान और माल ले रही है। लाइन में लगाकर जनता को दुखी करना लोकतंत्र नहीं है।’ कथित तौर पर नोटबंदी से पैदा हुए हालात में हो रही लोगों की मौत को लेकर भी शंकराचार्य विवादित विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा कि इन मौतों का श्राप मोदी को लगेगा।

 

You May Also Like

English News