शनिवार रात को इस वक्त करें सम्भोग, मिलेगा जन्नत का मज़ा

शनिवार रात को इस वक्त करें सम्भोग, मिलेगा जन्नत का मज़ा, कैसे सेक्स का भरपूर आनंद लिया जा सकता है कई लोग सेक्स का पूरा आनंद नही ले पते उनको नही पता होता की सेक्स का पूरा मज़ा कसे लिया जा सकता है इसके लिए नीचे दिए गए वाकया को ध्यान से पढ़े.

शनिवार रात को इस वक्त करें सम्भोग, मिलेगा जन्नत का मज़ा

सेक्स करते समय ये मजे चाहती है महिलाएं

सेक्स आनंद के लिए किया जाता है। लेकिन कई बार लोग सेक्स से पूरा मज़ा नहीं ले पाते। कभी भी कहीं भी किसी भी तरह से सेक्स करने से चरम सुख की प्राप्ति नहीं होती। और न ही इससे महिला और पुरुष को संतुष्टि हो पाती है। तो आखिर फिर सेक्स करने का सही वक्त और तरीका क्या है जिससे चरमसुख की प्राप्त हो सके। उस वक्त काम क्रीडा करने से और कुछ बातों के ध्यान देने से दोनों पार्टनर निहाल हो जाएँ। इन सारे सवालों का जवाब हमारे पास है।

आप भी अपनाये ये सेक्स पोजीशन और पाए गजब उत्तेजना

ब्रिटेन में एक रिसर्च संस्था ने अपने ताज़ा शोध में दावा किया किया है कि सेक्स करने का सबसे उचित समय शनिवार की रात को 10-11 बजे के बीच का समय होता है। इस वक्त सारी टेंशन भुलाकर अपनी महिला पार्टनर के आगोश में खो जाने से चरम सुख मिलता है और दोनों संतुष्ट हो जाते हैं। इस शोध में करीब 2000 जोड़े शामिल हुए। उनपर करीब 6 महीने तक अध्ययन किया गया और परिणाम यह आया कि सेक्स करने का सबसे अच्छा समय शनिवार रात को 10-11 के बीच का है।

सेक्स में परम आनंद की प्राप्ति के लिए एक और जरूरी बात जो बहुत मायने रखती है। इंटरकोर्स के समय औसतन 35 मिनट तक क्रामकीड़ा करने से बेहद आनंद मिलता है। यह तभी संभव है जब आपके मन में तनाव बिल्कुल न हो। शनिवार को वीकेंड होता है इसलिए लोग बेफिक्र होते हैं। टेंशन कम होती है और अगले दिन छुट्टी होने की वजह से लोग सबकुछ भूलकर और मन लगाकर सेक्स करते हैं।

जानिए, स्त्रियों के 10 सबसे संवेदनशील अंगों के बारे में

अक्सर सेक्स करते रहने वाले ये बात तो जानते ही हैं कि सेक्स में फोर प्ले कितना अहम होता है। लेकिन लोग फोरप्ले के नाम पर सिर्फ एक दो बार बूब्स दबाते हैं और किस करते हैं फिर शुरू हो जाते हैं सेक्स करने में। हम आपको बता दें कि यह तरीका ठीक नहीं हैं। फोरप्ले तबकत जरूरी है जबतक आपकी महिला पार्टनर खुद सेक्स के लिए पागल न हो जाए और माँग न करने लगे। तब तक उसके शरीर के संवेदनशील हिस्सों से खेलते रहें। उसके बूब्स, नितम्बों और शरीर को सहलाते रहें। क्लिटरस को रब करें। जब महिला पार्टनर बेचैन हो जाए तभी प्रवेश कराएँ।

You May Also Like

English News