शब्द जिनके लिए कम पड़ जाएं, ऐसी हैं नॉर्थ-ईस्ट की ये जगहें…

अगर खूबसूरत पहाड़ और हरियाली आपको बहुत पसंद है तो आपको नॉर्थ ईस्ट की वादियां की सादगी जरूर अपनी ओर खींच लेगी. यहां के हर कोने में प्रकृति ने अपनी कलाकारी को बहुत ही आकर्षक ढंग से पेश किया हुआ है. सि‍क्क‍िम से लेकर मिजोरम तक हर जगह का अपना अलग आकर्षण है

unakoti-tripura_080516041409

श्रीलंका की इन जगहों को देखकर हैरान रह जाएंगे…

अरुणाचल प्रदेश के जीरो वैली को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शुमार किया गया है. इस राज्य में यूं तो पर्यटकों के लिए कई शानदार स्थान हैं, लेकिन जीरो वैली काफी प्रसिद्ध है. इस स्थान पर जाने के लिए इनर लाइन परमिट लेने की जरूरत होती है. इसका मतलब यह हुआ कि यहां बिना सरकार की अनुमति के कोई जा नहीं सकता.  

pfutsero-nagaland_080516041409

सिक्किम में आप रोमांच की तलाश में आ रहे हैं तो यह पश्चिम सिक्किम सबसे उपयुक्त है. हिमालय के लिए सभी ट्रैक इसी जिले से निकलते हैं. 17 सौ मीटर की ऊंचाई पर स्थित यूकसोम सिक्किम के राजघराने की पहली राजधानी थी और यहीं प्रथम चौग्याल (राजा) का राज तिलक हुआ था. पश्चिम सिक्किम पुराने और पवित्र बौद्ध गुम्बाओं के लिए भी मशहूर है.

क्या आप जानते हैं ‘गुलाबी झील’ का सच, हैरान कर देंगी तस्वीरें

 उनाकोटि बांग्लादेश की सीमा से महज कुछ ही दूरी पर स्थित है और यहां पहुंचने के लिए कोलकाता से त्रिपुरा की राजधानी अगरतला जाना होता है. यहां कई भगवानों की मूर्तियां आपको दिखेंगी जिनको शिल्पकला का अद्भुत नमूना माना जाता है. 

shillong-meghalaya_080516041409

तवांग मठ का निर्माण मेराक लामा लोड्रे ग्यात्सो ने 1680-81 ई. में कराया था. तवांग मठ एक पहाड़ी पर बना हुआ है. समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 10,000 फीट है. यहां पर कई छोटी नदियां भी बहती हैं. यहां से पूरी त्वांग-चू घाटी के खूबसूरत दृश्य देखे जा सकते हैं. 

मेघालय का शिलांग छु‍टि्टयां बिताने के लिए बहुत अच्छी जगह है. गाड़ी से जाने योग्‍य पर्वतीय स्‍थानों में से एक माना जाने वाला शिलांग ऐसा पर्यटन स्‍थल जहां ज्यादा पैदल नहीं चलना होता. शिलांग की उपयुक्‍त सुविधाएं, मनोरम दृश्‍य, खुशहाल लोग, बादल और लंबे पाइन के पेड़, पर्वत, घाटियां, और एक शानदार गोल्‍फ कोर्स, इसे एक अच्‍छा पर्यटन स्थल बनाते हैं.

 

You May Also Like

English News